BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

कोरोना से खुद बचिये-सरकार फेल हो गयी है? बिहार में ऑक्‍सीजन की कमी से पहली मौत, कई अस्पतालों ने इलाज रोका

अन्य राज्यों की तरह बिहार (Bihar) में भी कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप बढ़ गया है. बिहार में रोज सैकड़ों मरीज सामने आ रहे हैं. वहीं, कई संक्रमितों की रोज मौत भी हो रही है. हालांकि, सरकार और कोरोना वॉरियर्स संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए दिनरात काम कर रहे हैं. इसी बीच खबर है कि ऑक्सीजन की कमी से हाइटेक अस्पताल में एक कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हो गई है.

Sponsored


Sponsored

कहा जा रहा है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से प्राइवेट अस्पतालों ने मरीजों को अपने यहां से जाने का अटीमेटम दे दिया है. दानापुर (Danapur) के लगभग सभी प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर खाली हो गए हैं. ऐसे में ऑक्सीजन को आपूर्ति नहीं हो पा रही है. इसकी वजह से कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा एकाएक बढ़ गया है.

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

दरअसल, दानापुर के सगुना मोड़ स्थित हाइटेक और समय अस्पताल समेत तमाम निजी अस्पतालों ने कोविड के मरीजों को अपने यहां से निकालने का अल्टीमेटम दे दिया है. सुबह ही अपनी व्यावस्था करने को कह दिया. इसके बाद अफरातफरी का माहौल बन गया है. यह नौबत ऑक्सीजन समाप्त होने की वजह से आई है. बताया जाता है कि सुबह तक किसी तरह से ऑक्सीजन चलेगी. उसके बाद हालात और मुश्किल हो जाएंगे. ऐसे में मरीजों को पहले ही यहां से दूसरे जगह शिफ्ट हो जाने की हिदायत दी गई है, जिससे मरीज के परिजन परेशान हो गए हैं.

Sponsored


Sponsored

निपटारे की बात कही है
दानापुर इलाके के लगभग सभी अस्पतालों की स्थिति यही है. हर जगह ऑक्सीजन समाप्त हो चुकी है और अब मरीजों को रख पाना उनके लिए संभव नहीं हो पा रहा है. कोविड-19 मरीजों के लिए ऑक्सीजन सबसे अहम होता है. साथ ही वेंटिलेटर की जरूरत पड़ती है. वेंटिलेटर की भी कमी हो गई है. ऐसे में सबसे बड़ी चिंता वाली बात है कि ऑक्सीजन की कमी होने की वजह से मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट किया जा रहा है. 

Sponsored

ऐसे हालात दानापुर के अधिकतर अस्पतालों में देखे जा रहे हैं, जहां से मरीजों को ऑक्सीजन मुहैया नहीं हो पा रहा है. इसकी वजह से उन्हें दूसरे अस्पताल में शिफ्ट करने की हिदायत दी गई है, जो काफी गंभीर बात है. बताया जाता है कि यह समस्या पूरे पटना में है. वहीं, पटना जिला अधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव और इंडस्ट्रियल विभाग के प्रधान सचिव के साथ बैठक भी की है और निपटारे की बात कही है.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: News18

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here