BIHARBreaking NewsSTATE

ऐसा बेटा होने से तो…मुजफ्फरपुर के युवक ने पहले पिता के इलाज और फिर अंतिम संस्कार करने से किया इंकार

मुजफ्फरपुर। भारतीय समाज ने विकास के क्रम में कई पौराणिक मान्यताओं को पीछे छोड़ दिया है। बावजूद कुछ अब भी अपनी जड़ें मजबूती से जमाए हुए हैं। संतान के रूप में बेटा का हाेना उन्हीं में से एक है। इसके लिए माता-पिता न जाने कितनी परेशानियां उठाते हैं, लेकिन वर्तमान में जो हालात दिख रहे हैं।

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

उसे देखकर तो हर कोई यही कह रहा। ऐसा बेटा होने से तो बेहतर था कि नहीं होता। दरअसल, कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच लोग अपनी मूलभूत जिम्मेवारियों से भी किनारा करते जा रहे हैं। कोरोना के डरावने माहौल के बीच इस तरह की घटना ने लोगों को सोचनने पर मजबूर कर दिया है।

Sponsored


Sponsored

इस तरह से चला घटनाक्रम
शनिवार को बुजुर्ग अर्जुन ओझा और उनकी पत्नी शांति ओझा को उनके बेटे व बहू ने इलाज के नाम पर लाकर सदर अस्पताल में छोड़ दिया। देर शाम दंपती को लेकर सदर अस्पताल से एंबुलेंस उसके घर पहुंची तो बेटे ने रखने से मना कर दिया। जिसके बाद उन्हें एसकेएमसीएच के कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया। 12 घंटे तक उनका इलाज चला, लेकिन वह नहीं बच पाए। रविवार की सुबह उनकी मौत कोरोना वार्ड में हो गई।

Sponsored


Sponsored

मौत के बाद जब स्वजन को सूचना दी गई तो उन्होंने शव लेने से इन्कार कर दिया। इसके बाद अस्पताल प्रशासक व कुछ सामाजिक लोगों की पहल पर अंतिम संस्कार हुआ। पत्नी की चिकित्सा अभी एसकेएमसीएच में चल रही है। हालांकि वह कोरोना पॉजिटिव नहीं निकली है। सामान्य वार्ड में उनका इलाज किया जा रहा है। महत्वपूर्ण बात यह है कि यह युवा दंपती जिस घर से रह रहे हैं वह भी इन्हीं माता पिता का दिया हुआ है।

Sponsored


Sponsored

बेटे ने मुंह मोड़ा, सामाजिक संगठन की पहल पर मिला खााना
मुजफ्फरपुर: बालूघाट इलाके में मां के कोविड संक्रमित होने के बाद बेटे-बहू ने उनसे मुंह मोड़ लिया। उनको खाना देने से इंकार कर दिया। जबकि सब एक मकान में ही रहते है। बेंगलुरु में रह रही बेटी ने अपनी मां तक खाना पहुंचाने की गुहार सोशल मीडिया व फोन के माध्यम से अलग-अलग संगठनों से लगाई। जब जाकर उसको खाना मिला। बुजुर्ग महिला ने कहा कि उनके बेटे-बहू पहले से ही उनसे अलग रहते हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमित होने के बाद भी वे लोग नहीं आए। वहीं, सोशल मीडिया पर मामला सामने आने के बाद उसको समाज के लोगों ने देखरेख शुरू की है।

Sponsored

Ads

Sponsored

Ads

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: JNN

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here