BIHARBreaking NewsSTATE

राज्य निर्वाचन आयोग ने किया स्पष्ट, बिहार पंचायत चुनाव के लिए इस दस्तावेज की जरूरत नही

राज्य निर्वाचन आयोग ने यह स्पष्ट कर दिया है कि बिहार पंचायत चुनाव के लिए चरित्र सत्यापन प्रमाण पत्र की कोई आवश्यकता नहीं है। दरअसल इन दिनों थाने में चरित्र सत्यापन के लिए चुनाव लड़ने वाले संभावित प्रत्याशियों की भीड़ उमड़ रही थी। लोगों को किसी भी गलतफहमी से बचाने के लिए आयोग ने ये निर्देश जारी किया है।

Sponsored

भ्रष्टाचार में लिप्त कई लोगों की मुश्किलें बढ़ीं
इसके अलावा पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से निर्वाचन आयोग ने निर्देश जारी करते हुए भ्रष्टाचार सहित 11 मामलों से जुड़े लोगों को चुनाव लड़ने पर पाबंदी लगा दी है।

Sponsored

जिला निर्वाचन पदाधिकारी को भेजे निर्वाचन आयोग के निर्देश के मुताबिक कोई भी व्यक्ति जिसे भारत या बाहर राजनीतिक अपराध के अलावा अन्य अपराध के लिए छह महीने या उससे ज्यादा की सजा हो चुकी हो उसको भी चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य माना गया है। निर्वाचन आयोग के निर्देशों के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति भारत का नागरिक नहीं है या चुनाव संबंधी कानून के तहत अयोग्य घोषित कर दिया गया है तो उसे भी चुनाव लड़ने से बाहर रखा गया है। आयोग के नए गाइडलाइन के बाद भ्रष्टाचार में लिप्त कई लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

सेवा से मुक्त कर दिए गए हों तो चुनाव लड़ने पर पाबंदी
इसके अलावा पंचायत चुनाव में अगर कोई केंद्र या बिहार सरकार या स्थानीय प्राधिकार से सहायता प्राप्त संस्था में काम करने वाले हों या फिर कदाचार के कारण सेवा से मुक्त कर दिए गए हों तो ऐसे लोग पंचायत चुनाव नही लड़ सकेंगे। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति लोक सेवाओं में नियुक्ति के लिए अयोग्य घोषित कर दिया गया है तो वह भी चुनाव नहीं लड़ सकेगा। वहीं आयोग ने यह भी कहा है कि अगर कोई व्यक्ति 21 साल से कम उम्र का है तो वह भी चुनाव नहीं लड़ सकता है। साथ ही कोई व्यक्ति केंद्र या राज्य सरकार या किसी भी स्थानीय प्राधिकार की सेवा में हो तो उसे भी चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित किया गया है।

Sponsored

सीसीए लगाने के लिए भी तैयार हो प्रस्ताव
पंचायत चुनाव में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए उन अपराधियों को चिह्नित किया जा रहा है जिनके खिलाफ सीसीए प्रस्ताव तैयार कर भेजा जा सके। पहले के चुनाव और सांप्रदायिक घटनाओं में शामिल रहे अपराधियों को चिह्नित किया जा रहा है। एक प्रशासनिक पदाधिकारी ने बताया कि सीसीए तीन और सीसीए 12 के तहत प्रस्ताव तैयार किया जायेगा। वैसे अपराधियों पर खास ध्यान दिया जायेगा जो मतदाताओं को प्रभावित कर सकते हैं।

Sponsored

साम्प्रदायिक घटनाओं में शामिल रहे अपराधियों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश
पंचायत चुनाव को देखते हुए पुलिस मुख्यालय ने भी जरूरी कार्रवाई का निर्देश दिया है। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने सारण प्रमंडल के सभी जिलों के डीएम-एसपी को निर्देश दिया है कि चुनाव में हुई घटनाओं और साम्प्रदायिक घटनाओं में शामिल रहे अपराधियों पर कड़ी नजर रखी जाये और उनके खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई की जाये। यह भी कहा गया है कि चुनाव से संबंधित लंबित मामले का जल्दी निष्पादन किया जाये। पंचायत चुनाव शांतिपूर्वक संपन्न हो, इसके लिए पूरी तैयारी करने पर भी बल दिया गया है। संवेदनशील बूथों को चिह्नित कर वहां विशेष सुरक्षा की व्यवस्था करने को कहा गया है।

Sponsored

बिहार में पहली बार पंचायत चुनाव में चरणवार आचार संहिता लागू होगी
पंचायत चुनाव(Bihar Panchyat Election) इस बार कई मायनों में खास होने वाला है। बिहार पंचायत चुनाव में पहली बार ईवीएम से चुनाव होने जा रहे हैं। पहली बार इस बार के पंचायत चुनाव में चरणवार आदर्श आचार संहिता लागू होगी। प्रदेश में 10 चरणों में होने वाले पंचायत चुनाव में जिस चरण में जिन जिलों में चुनाव होगा उस चरण में केवल उन्हीं जिलों में मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट यानी आदर्श आचार संहिता लागू होगी। दरअसल चुनावी आचार संहिता के कारण विकास कार्यों में लंबे समय तक रोक न लगे इसी कोशिश को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने प्लान तैयार किया है। इससे पहले के पंचायत चुनाव में एक साथ पूरे राज्य में आदर्श आचार संहिता लागू हो जाती थी।

Sponsored

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here