BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

बाल श्रम निषेध दिवस; आज भी सड़को पर ठोकर खाने को मजबूर देश के भविष्य, धरातल पर कोसों दूर सरकारी योजना

पूरा विश्व आज 12 जून को बाल श्रम निषेध दिवस मना रहा है. वहीं भारत में भी बाल श्रम एक बहुत बडा़ मुद्दा है, बाल श्रम को रोकने के लिए केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार ने न जाने कितने नियम और कानून बनाए है फिर भी अब तक इस पर नकेल लगाना लगभग नामुमकिन सा है. आज भी आपको बाल श्रम के नजारे सरेआम देखने को मिल रहा है.

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

वही बात मुज़फ़्फ़रपुर जिले की जाए तो यहां खुलेआम बाल छोटे छोटे मासूम बच्चे श्रम करते हुए दिख जाते है. यह दृष्य मुज़फ़्फ़रपुर जिला समाहरणालय परिसर और उसके आस पास का है जहां बाल श्रम करते हुए मासूम बच्चे साफ दिख रहे है.

Sponsored


Sponsored

जिलाधिकारी के नाक के नीचे यह सब रोज देखने को मिल जाता है लेकिन इन्हें रोकने और देखने वाला कोई नहीं है. सरकार बाल श्रम निषेध के लिए भरसक प्रयास करती है लेकिन इसके लिए बनाए गये कानून पूरी तरह से निष्क्रिय साबित हो रहे है.

Sponsored


Sponsored

आज के दिन इस विषय पर चर्चा करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि जिन बच्चों को बिहार और देश के भविष्य को उज्जवल करने की जिम्मेदारी सौंपी गई उनका ही भविष्य खुद अधर में है, जिन्हें स्कूल जाकर शिक्षित होना चाहिए वहीं आज सड़क पर घूम घूम कर कुडा़ और कचरा चुन रहे हैं.

Sponsored


Sponsored

मुजफ्फरपुर के इन दृश्यों को देखकर बाल श्रम निषेध दिवस पूरी तरह से एक व्यंग के समान प्रतीत होता है, कहीं ना कहीं इस दिवस को सार्थक करने के लिए बाल श्रम निषेध कानून को धरातल पर लाने की जरूरत है. ताकि देश का भविष्य अंधेरे में जाने से बचे और देश को गढ़ने का काम करें.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Ads

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here