BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

BREAKING; बिहार में Coaching बंद करने पर छात्रों का जबरदस्त बवाल, पुलिस पर हमला, जमकर तोड़फोड़ और बवाल

सासाराम। सरकार की ओर से जारी आदेश के अनुसार प्रशासन द्वारा निजी कोचिंग बंद कराने की कोशिश किए जाने पर बिहार के सासाराम जिले में जबर्दस्‍त बवाल हो गया है। नगर परिषद के कार्यपालक अधिकारी को खदेड़े जाने के बाद शहर में सड़कों पर आगजनी और रोड़ेबाजी के बीच बने माहौल में पूरा बाजार बंद हो गया है। हंगामा कर रहे छात्रों ने पुलिस की गाड़‍ियों पर भी हमला किया है। नगर थाने की गाड़‍ियों में भी तोड़फोड़ की गई है। सासाराम कलेक्‍ट्रेट और पोस्‍ट ऑफिस चौक पर भी जमकर हंगामा हुआ है। पूरी सड़क पर ईंट और रोड़े बिखर गए हैं। स्थिति बिगड़ने के बाद बड़ी तादाद में पुलिस बलों को सड़क पर उतारा गया है। साथ ही नौ उपद्रवियों को गिरफ्तार करने की सूचना भी मिल रही है। पुलिस लाठीचार्ज कर उपद्रव‍ियों को खदेड़ने में जुटी है। उपद्रवियों ने कई सरकारी भवनों और स्‍मारकों को भी नुकसान पहुंचाया है।

Sponsored

किसी तरह जान बचाकर भागे सासाराम के कार्यपालक अधिकारी

Sponsored

सासाराम नगर थाना क्षेत्र के गौरक्षणी मोहल्ले में कोचिंग बंद कराने गए नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी अभ‍िषेक आनंद की गाड़ी में छात्रों ने तोड़-फोड़ की। अधिकारी वहां से किसी तरह जान बचाकर भागे। इसके बाद छात्रों ने पूरे शहर की सड़कों पर जमकर आगजनी, हंगामा और तोड़फोड़ की है। हंगामा कर रहे छात्रों ने सासाराम – आरा स्टेट हाईवे को जाम कर दिया था। पुलिस बलों की ओर से लाठीचार्ज के बाद स्थिति कुछ नियंत्रित हुई है, लेकिन कुछ इलाकों में छात्र अभी भी हंगामा कर रहे हैं।

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

एसपी और डीएम मौके पर पहुंचे, आंसू गैस के गोले छोड़े गए
हंगामा कर रहे छात्रों ने दर्जनों निजी वाहनों में भी तोड़फोड़ की है। छात्र लगातार सड़क पर आगजनी कर रहे हैं। स्थिति को संभालने के लिए खुद डीएम और एसपी ने मोर्चा संभाल लिया है। सूत्रों के मुताबिक छात्रों को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए हैं। शहर की सड़कों पर बड़ी तादाद में पुलिस बलों को उतारा गया है। बावजूद इसके अभी स्थिति पूरी तरह नियंत्रित नहीं हो सकी है।

Sponsored

सरकार के फैसले का विरोध कर रहे निजी कोचिंग संचालक
बिहार में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार ने 11 अप्रैल तक सभी शैक्षणिक संस्‍थानों को बंद करने का आदेश जारी किया है। बिहार के कई निजी कोचिंग संचालक इसका विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार जब मॉल और सिनेमा हॉल नहीं बंद करा रही है तो केवल कोचिंग ही क्‍यों बंद कराया जा रहा है। कोचिंग बंद कराए जाने से छात्रों का शैक्षणिक भविष्‍य चौपट हो जाएगा। अभी परीक्षाओं का दौर चल रहा है। ऐसे में कोचिंग को सभी सावधानियों का पालन करते हुए खोलने की इजाजत दी जानी चाहिए।

Sponsored

सरकार ने प्राथमिकी दर्ज कराने की दी है चेतावनी
बिहार की राजधानी पटना में भी कुछ कोचिंग संचालकों ने अपने संस्‍थान खुला रखने की बात रविवार को कही थी। इसपर जिला प्रशासन ने सख्‍ती दिखाई। पटना के डीएम चंद्रशेखर ने साफ तौर पर कहा कि कोई भी शैक्षणिक संस्‍थान अगर खुला पाया गया तो प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। सरकार का आदेश सभी को हर हाल में मानना होगा।

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: JNN

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here