BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

बिहार में एक हफ्ते का बढ़ सकता है लॉकडाउन! नीतीश के मंत्री ने 4 घंटे की छूट पर भी उठाए सवाल

पटना. बिहार में जारी कोरोना संक्रमण को देखते हुए नीतीश सरकार ने 5 मई से 15 मई तक लॉकडाउन (Bihar Lockdown) लगा दिया है. इसका असर भी देखने को मिल रहा है जब बिहार में कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीज़ों की संख्या लगातार घटती जा रही है.

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

इसी को देखते हुए IMA ने एक बार फिर से बिहार सरकार से मांग की है कि बिहार में कोरोना संक्रमण (Corona Cases In Bihar) का चेन तोड़ने के लिए एक हफ़्ते का लॉकडाउन और बढ़ा देना चाहिए. बिहार सरकार के मंत्री जिवेश मिश्रा ने भी सरकार से लॉकडाउन बढ़ाने की मांग करने के साथ-साथ लॉकडाउन के दौरान चार घंटे की छूट पर भी सवाल उठाया है.

Sponsored


Sponsored

उन्होंने छूट की जगह गली-मोहल्ले में ठेला पर सब्ज़ी और दूध फल बेचने का निर्देश देने का आग्रह किया है. बिहार IMA के कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने मांग की है कि बिहार में लॉकडाउन का असर दिख रहा है. इसकी वजह से लोग घरों से कम निकल रहे हैं जिससे कोरोना संक्रमण का चेन भी ब्रेक हो रहा है लेकिन अभी भी बिहार में कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीज़ों की संख्या दस हज़ार से ऊपर है, इसे देखते हुए लॉकडाउन की मियाद 15 मई के बाद भी एक हफ़्ते के लिए और बढ़ा देना चाहिए, ताकि कोरोना का असर बिहार में और कम हो सके.

Sponsored


Sponsored

लॉकडाउन के दौरान फिलहाल चार घंटे की जो ढील दी जा रही है उसे कम कर दो घंटे का कर देना चाहिए, और सब्ज़ी मार्केट और हाट पर और सख़्त रुख़ दिखाना चाहिए. उन्होंने कहा कि ये अंदेशा जताया जा रहा है की कोरोना का थर्ड फ़ेज़ भी आ सकता है. दूसरी तरफ बिहार के श्रम मंत्री जिवेश मिश्रा ने भी बातचीत में कहा कि बिहार में लॉकडाउन का अच्छा असर दिख रहा है लेकिन इसके बावजूद अभी भी बिहार में कोरोना से प्रभावित मरीज़ों की संख्या प्रति दिन दस हज़ार से ऊपर है. इस पर और लगाम लगाने के लिए लॉकडाउन को एक हफ़्ते के लिए और बढ़ा देना चाहिए, साथ ही चार घंटे के लिए जो लॉकडाउन में ढील दी जा रही है, उस पर भी गम्भीरता से विचार करना चाहिए.

Sponsored


Sponsored

इस छूट के दौरान बड़ी संख्या में लोग ख़रीदारी करने के लिए सब्ज़ी मार्केट और हाट में पहुंच रहे हैं उस दौरान कोरोना बढ़ने का ख़तरा और बढ़ जाता है. चार घंटे की छूट की जगह गली-मोहल्ले में सब्ज़ी और फल की बिक्री को और बढ़ावा देना चाहिए ताकि कोरोना संक्रमण का ख़तरा कम हो सके. ग़ौरतलब है कि बिहार में कोरोना के मरीज़ों की संख्या में तेज़ी से इज़ाफ़ा होने के बाद बिहार सरकार ने 5 मई से 15 मई तक लॉकडाउन लगाया है. इस दौरान चार घंटे की छूट सुबह सात बजे से 11 बजे तक दी जाती है लेकिन इसी दौरान लोगों की भीड़ उमड़ जा रही है जिससे कोरोना के संक्रमण का ख़तरा और बढ़ रहा है.

Sponsored

Ads

Sponsored

Ads

Sponsored

Sponsored

Input: News18

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here