BIHARBreaking NewsSTATE

मालकिन की मौत के बाद 5 दिन तक श्मशान घाट पर भूखा-प्यासा बैठ इंतजार करता रहा वफादार कुत्ता

बिहार के गया में एक वफादार कुत्ते की सच्ची कहानी सुन कर फिल्म ‘तेरी मेहरबानियां’ के वफादार कुत्ते की बरबस याद आ जाएगी. फिल्म में उसके मालिक को कुछ गुंडे मार देते हैं, जिसका बदला वफादार कुत्ते लेता है. कुछ ऐसा ही वाकया गया में भी देखने की मिला है, जहां मालकिन के निधन के बाद बाद उस जगह पर जहां पर मालकिन की दाह संस्कार किया गया, उस जगह पर एक कुत्ता करीब 4 दिन से भूखा प्यासा बैठा रहा और अपनी मालकिन के आने का इंतजार करता रहा. इस दौरान कई लोगों ने कुत्ते को वहां से हटाना चाहा, लेकिन कुत्ते ने सभी को भोंकते हुए सभी को भगा दिया.

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

मामला गया जिले के शेरघाटी अनुमंडल के शेरघाटी शहर के सत्संग नगर के रहने वाला भगवान ठठेरा की पत्नी की मौत बीते 1 मई को अचानक हो गई थी, मृतका का राम मंदिर घाट पर मोहर नदी के पास अंतिम संस्कार किया गया था, अंतिम संस्कार में परिजनों के साथ उनका कुत्ता भी आया था. अंतिम संस्कार के प्रक्रिया के समाप्त होने के बाद सब लोग लौट गए लेकिन कुत्ता वहीं बैठा रहा, जो पिछले 5 दिनों तक भूखा प्यासा बैठा रहा. स्थानीय लोगों की मुताबिक शुरू में लोगों को कुछ समझ में नहीं आया लेकिन जब एक कुत्ता को लगातार 4 दिन तक अंतिम संस्कार वाली जगह पर बैठा हुआ देखा तो लोगों ने खोज खबर ली.

Sponsored


Sponsored

स्थानीय लोगों ने बताया कि ये बेजुबान और स्वामीभक्त अपने मालकिन की मौत से इतना दुखी था कि वह अंतिम संस्कार वाली जगह से हटना ही नहीं चाह रहा था, यहां तक कि कुछ लोग जब उसे हटाने गए तो उन पर गुस्से में भौंकने लगा, लेकिन आम लोग भी चिंतित थे कि वह 4 दिनों से भूखा प्यासा बैठा है ऐसे में उसकी जान चली जा सकती है. इसके बाद जब लोगों को इसका कोई दूसरा विकल्प नहीं नजर आया तो कुछ लोगो ने कुत्ते को खिलाने के लिए खाना भी रखा लेकिन कुछ खाया नही, तब सभी लोग वापस लौट गए. हालांकि पांचवें दिन यह कुत्ता दिखाई नहीं दिया.

Sponsored


Sponsored

लोगों ने बताया कि मालकिन सालों से कुत्ता को पाले हुए थे कुत्ता को खाना मिला कि नहीं सबसे ज्यादा और चिंतित रहती थी, लोग बताते हैं कि दिन हो या रात कुत्ता को खिलाने के बाद ही खाना खाती थी, जब कभी दूसरे मुहल्ले में कुत्ता चला जाता था और उसको लौटने में देर हो जाती थी. वह काफी चिंतित हो जाती थी कुत्ता को ढूंढने के लिए कई मोहल्ले का चक्कर भी लगाती थी. यही कारण है कि कुत्ता भी उन्हें काफी प्यार करता था. हमेशा उनके पास ही रहा करता था, लेकिन एक कुत्ता और मालकिन के प्यार का यह अनूठा सच्ची कहानी सालों साल हमेशा याद दिलाती रहेगी.

Sponsored

Ads

Sponsored

Ads

Sponsored

Sponsored

Input: News18

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here