BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

‘बिहार में अभी तुरंत लगे लॉकडाउन’ ; सर्वदलीय बैठक से पहले विपक्ष ने CM से किया अनुरोध

बिहार में कोरोना संक्रमण की वजह से स्थितियां खतरनाक होती जा रही हैं. कोरोना वायरस से निपटने के इंतजामों की समीक्षा करने के लिए बिहार सीएम नीतीश कुमार की तरफ से पटना में आज यानी कि शुक्रवार शाम को एक बैठक बुलाई गई है. कल सर्वदलीय बैठक भी होने वाली है लेकिन इस बैठक से ठीक पहले विपक्ष ने एक बड़ी मांग की है.

Sponsored

बिहार में कोरोना से बिगड़ते हालात को देखते हुए विपक्ष ने सरकार से तत्काल लॉकडाउन लगाने की मांग की है. एक ओर सर्वदलीय बैठक से पहले सीएम की ओर से राज्य में कोरोना संक्रमण से निपटने के तरीके और हालात की समीक्षा की जा रही है तो वहीं दूसरी ओर विपक्ष का कहना है कि राजधानी पटना और पूरे सूबे की स्थिति को देखते हुए फ़ौरन सरकार को लॉकडाउन लगाना चाहिए.

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता प्रेमचंद मिश्रा ने शुक्रवार को कहा कि बिहार में कोरोना बेकाबू हो गया है. विशेषकर पटना की स्थिति बहुत ख़राब है. बजट सत्र के दौरान बिहार सरकार ने दावा किया था कि हमारे पास पीपीई किट और जांच किट पर्याप्त मात्रा में है. लेकिन अब ये झूठा साबित हो रहा है. राज्य के अस्पतालों में ऑक्सीजन ख़त्म हो गया है. सरकार को लॉकडाउन की ओर तत्काल बढ़ना चाहिए.

Sponsored

उधर कोरोना की भयावह स्थिति को देखते हुए प्रदेश कांग्रेस कार्यालय सहित सभी जिला कार्यालयों को बंद कर दिया गया है. बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने एक आदेश जारी करते हुए कहा कि कांग्रेस का राज्य मुख्यालय सदाकत आश्रम सहित पूरे राज्य के जिला कार्यालय अनिश्चितकाल के लिए बन्द रहेंगे.

Sponsored

उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में सरकारी उदासीनता और प्रशासनिक विफलताओं के कारण स्थिति बेहद विकराल हो गयी है. प्रदेश में जब तक स्थितियां सामान्य नहीं होंगी. तब तक कांग्रेस के प्रदेश से लेकर जिला मुख्यालयों को अनिश्चितकाल तक बन्द करने का फैसला लिया गया है. प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के चेयरमैन राजेश राठौड़ ने कहा कि सदाकत आश्रम में केवल आवासीय कर्मचारियों के ही रहने की अनुमति रहेगी.

Sponsored

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कोरोना संक्रमण की भयावहता को देखते हुए काले कृषि कानूनों के खिलाफ 5 अप्रैल को प्रस्तावित अपने धरने को पहले ही स्थगित करते हुए राजनीतिक एवं सार्वजनिक कार्यक्रम सहित सभी स्तर कार्यक्रम रद्द कर दिया था. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी कोरोना के भयावह और घातक परिस्थिति को समझ रही है और सरकार की अकर्मण्यता को देखते हुए उसने ये फैसला लिया है. साथ ही आम जनता से अपील की है कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप में अपने और परिवार की सुरक्षा का विशेष ख्याल रखें.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: FirstBihar

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here