BIHARBreaking NewsNationalSTATE

Unlock बिहार : खत्म हो सकता है LockDown, जानिए CM नीतीश हटा सकते हैं कौन सी पाबंदियां

बिहार में पांच मई से जारी लॉकडाउन अब खत्‍म होगा या पांचवी बार इसे कुछ दिन के लिए और बढ़ाने का निर्णय होगा इस पर आज फैसला हो सकता है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार आज इस बारे में आगे के दिशानिर्देश देते हुए यह बता सकते हैं कि बिहार को किन-किन गतिविधियों में छूट दी जा रही है और कौन सी पाबंदियां अभी जारी रहेंगी।

Sponsored

 

वैसे माना जा रहा है कि राज्‍य सरकार कुछ नई रियायतों के साथ लॉकडाउन की समय सीमा को बढ़ा सकती है। एक सप्ताह के लिए राज्‍य में लॉकडाउन-5 लागू किए जाने की सम्‍भावना है। हालांकि इस दौरान प्रतिबंधों में ढील दी जाएगी ताकि लोगों को कम से कम परेशानियों का सामना करना पड़े। लॉकडाउन-4 की मियाद 8 जून यानी मंगलवार को समाप्त हो रही है। मंगलवार को ही आपदा प्रबंध समूह की बैठक होनेवाली है। इसके बाद प्रतिबंधों में ढील दिए जाने को लेकर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

Sponsored

 

 

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए राज्य सरकार ने 5 मई से बिहार में लॉकडाउन लगा रखा है। लॉकडाउन का प्रथम चरण 15 मई तक था। बाद में इसे 25 तारीख तक बढ़ाया गया। हालात की सीमाक्षा के बाद सरकार ने एक सप्ताह तक इसे और बढ़ाने का फैसला लिया। फिर 2-8 जून तक के लिए लॉकडाउन-4 लागू किया गया जो मंगलवार तक प्रभावी है।

Sponsored

 

बढ़ सकती है दुकानों के खुलने की समय सीमा

Sponsored

सूत्रों के मुताबिक लॉकडाउन अभी जारी रहने की उम्मीद है। हालांकि लॉकडाउन-4 के मुकाबले लॉकडाउन-5 में प्रतिबंधों में अतिरिक्त ढील दी जा सकती है। अभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानों को सुबह 6 से दोपहर 2 बजे तक खोलने की इजाजत है। माना जा रहा है कि इस समय सीमा को बढ़ाया जाएगा। दुकानें शाम 4 या उसके बाद तक खोलने की इजाजत दी जाएगी। हालांकि एक दिन बीच कर दुकानों को खोलने की व्यवस्था जारी रहने की संभावना है। बस और सार्वजनिक परिवहन से जुड़ी अन्य सेवाओं में क्षमता के 50 प्रतिशत लोगों को ही सफर की अनुमति होगी। इसमें फेरबदल की उम्मीद फिलहाल नहीं है। वहीं, दिन में निजी वाहनों से आने-जाने पर छूट मिल सकती है।

Sponsored

 

निजी कार्यालय भी खुल सकते हैं

Sponsored

अभी आवश्यक सेवाओं के इतर सरकारी कार्यालयों को खोला गया है। 25 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ सरकारी कार्यालय 2 जून से काम कर रहे हैं। लॉकडाउन-5 में सरकारी कार्यालयों के साथ निजी कार्यालयों के भी शुरू होने के आसार हैं। हालांकि कर्मचारियों की उपस्थिति सीमित होगी।

Sponsored

 

 

जरूरत पड़ी तो स्थानीय स्तर पर प्रतिबंध

Sponsored

कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने पर लॉकडाउन-3 से ही पाबंदियां सख्त करने का अधिकार जिला प्रशासन को दिया गया है। आगे भी इसे जारी रखने की संभावना है।

Sponsored

 

लॉकडाउन से संक्रमण दर में आई कमी

Sponsored

लॉकडाउन से संक्रमण दर को काम करने में काफी मदद मिली है। 5 मई को जब बिहार में पहली बार लॉकडाउन लगाया गया उस वक्त कोरोना संक्रमण की दर 15.57 प्रतिशत थी। वहीं 15 मई को यह घटकर 6.65 और 20 मई को 4.19 प्रतिशत पर पहुंच गयी। 27 मई को राज्य में संक्रमण दर 2.10 और 28 मई को इससे भी नीचे 1.93 प्रतिशत पर पहुंच गयी थी। रविवार 6 जून को कोरोना की संक्रमण दर 0.84 प्रतिशत पर पहुंच गयी है।

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here