Sponsored
Breaking News

गोपालगंज में भाई की पत्नी पर हुआ डायन होने का शक तो मार दी गोली, हालत गंभीर

Sponsored

मांझागढ़ थाने के छितौनी गांव में डायन बताकर एक व्यक्ति ने अपने भाई की पत्नी को गोली मार दी है. गोली लगने के बाद घायल महिला को इलाज के लिए गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है. घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तलाशी अभियान में जुटी हुई है.

Sponsored

दो साल पहले बेटा हुआ था गायब

जिस महिला को गोली मारी गयी है उसका आरोप है कि पहले भी उस पर जानलेवा हमला किया जा चुका है. महिला के जेठ संजय साह पर गोली मारने का आरोप लगा है. दरअसल छितौनी गांव के रहने वाले संजय साह का बेटा 2 साल पहले घर से गायब हो गया था. इसके बाद पड़ोसी राजू साह की पत्नी सीमा देवी पर डायन होने का आरोप लगाया गया था और उसके साथ मारपीट भी की गई थी.

Sponsored

इलाज के लिए गोरखपुर रेफर

बताया जा रहा है कि आज संजय साह होली खेलने के बाद सीमा देवी के घर पहुंचा और उसे अचानक से गोली मार दी. घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी संजय मौके से फरार हो गया. किसी तरह आसपास के लोगों की मदद से महिला को अस्पताल ले जाया गया. जहां डॉक्टरों ने उसे बेहतर इलाज के लिए गोरखपुर रेफर कर दिया. पुलिस इस पूरे घटना के बाद महिला का बयान लेने के लिए गोरखपुर निकली है. सदर एसडीपीओ संजय कुमार के मुताबिक आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है और जल्द ही आरोपी गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

Sponsored

झारखंड सबसे आगे

भारत के ग्रामीण इलाकों में डायन-बिसाही (अंधविश्वास) बहुत बड़ी समस्या है. महिलाओं को डायन बताकर उनके खिलाफ हिंसा के मामले सबसे अधिक बिहार के पड़ोसी राज्य झारखंड में देखने को मिलते हैं. अपराध अनुसंधान विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 2015 में डायन बताकर 46 महिलाओं की हत्या हुई. साल 2016 में 39, 2017 में 42, 2018 में 25, 2019 में 27 और 2020 में 28 हत्याएं हुईं. डायन बताकर प्रताड़ित करने के मामलों की बात करें 2015 से लेकर 2020 तक कुल 4556 मामले पुलिस में दर्ज किए गए. यानी हर रोज दो से तीन मामले पुलिस के पास पहुंचते हैं.

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Abhishek Anand

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored