Breaking NewsInternational

अफगानिस्तान के हालात से पाकिस्तान खुश, इमरान बोले- तालिबान ने गुलामी की बेड़ियां तोड़ीं

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि वे तालिबान के कितने बड़े समर्थक हैं। सोमवार को इस्लामाबाद में एक प्रोग्राम के दौरान इमरान ने कहा- तालिबान ने वास्तव में गुलामी की जंजीरों को तोड़ दिया है।

Loading...
Sponsored

पाकिस्तानी सेना और सरकार पर तालिबान को समर्थन और मदद के आरोप लगते रहे हैं। अल-कायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को अमेरिका ने पाकिस्तान के ही एबटाबाद में मार गिराया था।

Loading...
Sponsored

सोमवार को ही एक और घटनाक्रम हुआ। अफगानिस्तान के कुछ सियासतदान इस्लामाबाद पहुंचे और उन्होंने वहां पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से मुलाकात की। हालांकि, यह साफ नहीं हुआ कि इस डेलिगेशन में तालिबान के कुछ नेता थे या नहीं।

Loading...
Sponsored

मानसिक गुलामी का विरोध
एक एजुकेशनल सेरेमनी के दौरान इमरान ने तालिबान की खुले तौर पर तारीफ की। हालांकि, ये भी सही है कि उन्होंने ऐसा पहली बार नहीं किया। लेकिन, ऐसे वक्त जबकि दुनिया अफगानिस्तान पर आतंकियों के शासन को लेकर तमाम आशंकाओं से घिरी है, इमरान का बयान हैरान करने वाला है।

Loading...
Sponsored

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा- जब आप दूसरी संस्कृतियों को स्वीकार करते हैं तो एक तरह का दबाव आ जाता है। जब ये हो जाता है तो मैं इसे वास्तविक गुलामी से बुरा मानता हूं। सांस्कृतिक गुलामी से निकलना आसान नहीं होता। अफगानिस्तान में क्या हुआ या क्या हो रहा है? वहां गुलामी की जंजीरें ही तो तोड़ी जा रही हैं। इमरान ने इस मौके पर इंग्लिश मीडियम एजुकेशन के कल्चर पर पड़ने वाले गलत प्रभावों का जिक्र भी किया। इसी संदर्भ में उन्होंने तालिबान का समर्थन कर दिया।

Loading...
Sponsored

पाकिस्तान में खुशियां
तालिबान ने रविवार को जब काबुल पर कब्जा कर लिया तो पाकिस्तान के कई इलाकों में खुशियां मनाई गईं। कई इलाकों में तो लोग काफिलों में निकले और मिठाइयां बांटी। अमेरिका समेत दुनिया के ज्यादातर देशों का मानना है कि पाकिस्तान ही वो देश है जो तालिबान को हथियार और सैन्य मदद देता है।

Loading...
Sponsored

अमेरिका ने कई बार आरोप लगाया है कि हक्कानी नेटवर्क के नेता पाकिस्तान के सरहदी क्षेत्रों में रहते हैं। कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान के होम मिनिस्टर शेख रशीद ने दावा किया था कि तालिबान नेताओं के परिवार राजधानी इस्लामाबाद की पॉश कॉलोनीज में रहते हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा था कि जख्मी तालिबानियों का इलाज पाकिस्तान के अस्पतालों में किया जाता है।

Loading...
Sponsored

चीन, रूस और इरान भी तालिबान के करीब
अफगानिस्तान में तालिबान की हुकूमत आने के बाद जहां एक ओर अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस जैसे देश अपने दूतावास बंद कर रहे हैं, वहीं चीन, रूस, इरान और पाकिस्तान जैसे देश तालिबान की सरकार की हिमायत करते दिख रहे हैं। इसकी सिर्फ एक वजह है- अमेरिका का अफगानिस्तान से जाना।

Loading...
Sponsored

ये सभी देश अमेरिका के कई सारे मसलों पर विरोधी रहे हैं। ऐसे में अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी को ये भुनाना चाहते हैं और अपनी पकड़ मजबूत करना चाहते हैं। चीन ने तालिबान सरकार से अच्दे संबंधों को लेकर बयान भी जारी कर दिया है।

Loading...
Sponsored

 

Input: Dainik Bhaskar

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here