Breaking NewsNationalPoliticsSTATE

BREAKING; देश के नए मुख्य न्यायाधीश होंगे न्यायमूर्ति एनवी रमन्ना, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

जस्टिस एनवी रमन्ना देश के 48वें मुख्य न्यायाधीश बनेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनके नाम को मंजूरी दे दी है। भारत के प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे ने अपने उत्तराधिकारी और देश के 48वें प्रधान न्यायाधीश के तौर पर उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन वी रमणा के नाम की सिफारिश की थी।

Loading...
Sponsored

 

 

23 अप्रैल को रिटायर को रिटायर हो रहे हैं एसए बोबडे

Loading...
Sponsored

मौजूदा सीजेआई एसए बोबडे 23 अप्रैल को रिटायर हो रहे हैं। माना जा रहा है क जस्टिस रमन्ना 24 अप्रैल को सीजेआई पद की शपथ लेंगे, उनका कार्यकाल 26 अगस्त 2022 तक रहेगा। नियमों के मुताबिक, मौजूदा सीजेआई अपनी सेवानिवृत्ति के एक महीने पहले, अपने उत्तराधिकारी को लेकर एक सिफारिश भेजते हैं। इसके बाद सरकार सिफारिश को मंजूरी के लिए राष्ट्रपति के पास भेजती है।

Loading...
Sponsored

 

 

2014 को उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त हुए थे रमणा

Loading...
Sponsored

जस्टिस एनवी रमना का जन्म 27 अगस्त 1957 को एक आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के पोन्नावरम गांव में एक किसान परिवार में हुआ था। ​रमणा ने 10 फरवरी 1983 को वकील के तौर पर पंजीकरण कराया था। वह 27 जून 2000 को आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के स्थायी न्यायाधीश नियुक्त हुए और उन्होंने 10 मार्च 2013 से 20 मई 2013 तक आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के तौर पर काम किया। न्यायाधीश रमणा को दो सितंबर 2013 को दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर पदोन्नत किया गया और 17 फरवरी 2014 को उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

Loading...
Sponsored

 

 

मुख्यमंत्री रेड्डी ने की थी शिकायत

Loading...
Sponsored

मुख्यमंत्री रेड्डी की न्यायमूर्ति रमणा के खिलाफ शिकायत को लेकर उच्चतम न्यायालय के फैसले की जानकारी अदालत की वेबसाइट पर जारी एक बयान के माध्यम से दी गई। बयान में कहा गया कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा छह अक्टूबर 2020 को उच्चतम न्यायालय में एक शिकायत भेजी गई जिस पर आंतरिक प्रक्रिया के तहत गौर किया गया और उचित विमर्श के बाद उसे खारिज कर दिया गया। यह दर्ज किया जाए कि आंतरिक प्रक्रिया के तहत निपटाए जाने वाले मामले बेहद गोपनीय प्रकृति के होते हैं और उन्हें सार्वजनिक किये जाने की जरूरत नहीं हैं।

Loading...
Sponsored

 

 

रमणा पर सरकार के कामकाज पर दखल देने का आरोप

Loading...
Sponsored

एक अभूतपूर्व कदम के तहत रेड्डी ने छह अक्टूबर को सीजेआई बोबडे को लिखे एक पत्र में आरोप लगाया था कि उच्चतम न्यायालय के एक वरिष्ठ न्यायाधीश आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के कामकाज में दखल दे रहे हैं और तेलुगु देशम पार्टी और उसके मुखिया चंद्रबाबू नायडु के हितों में काम कर रहे हैं। रेड्डी ने आरोप लगाया था कि आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय का इस्तेमाल “लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई उनकी सरकार को अस्थिर करने और गिराने” के लिये किया जा रहा है। रेड्डी ने सीजेआई से इस मामले को देखकर विचार करने तथा “प्रदेश की न्यायपालिका की निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिये जो भी उचित व उपयुक्त लगे”, वैसा कदम उठाने का अनुरोध किया था। बाद में मुख्यमंत्री के इस पत्र को आंध्र प्रदेश के अमरावती में पिछले साल 10 अक्टूबर को उनके प्रधान सलाहकार अजय कल्लम ने मीडिया को भी जारी किया था।

Loading...
Sponsored
Swaraj Shrivastava Administrator
Sorry! The Author has not filled his profile.

Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here