BIHARBreaking NewsSTATE

BREAKING; थर-थर कांपी धरती, भूकंप के झटको से हिला देश का ये हिस्सा, दहशत में घरों से बाहर निकले लोग

अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। नेशनल सेंटर फोर सिस्मोलोजी के मुताबिक, भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.6 मापी गई है। सोमवार को रात नौ बजकर एक मिनट पर लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए जिस कारण लोग डरकर घरों से बाहर आ गए।

Sponsored


Sponsored

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

भूकंप आता कैसे है?

Sponsored

पृथ्वी की बाहरी सतह सात प्रमुख और कई छोटी पट्टियों में बंटी होती है. 50 से 100 किलोमीटर तक की मोटाई की ये परतें लगातार घूमती रहती हैं. इसके नीचे तरल पदार्थ लावा होता है और ये परतें (प्लेटें) इसी लावे पर तैरती रहती हैं और इनके टकराने से ऊर्जा निकलती है, जिसे भूकंप कहते हैं.

Sponsored

भारतीय उपमहाद्वीप को भूकंप के खतरे के लिहाज से सीसमिक जोन 2,3,4,5 जोन में बांटा गया है. पांचवा जोन सबसे ज्यादा खतरे वाला माना जाता है. पश्चिमी और केंद्रीय हिमालय क्षेत्र से जुड़े कश्मीर, पूर्वोत्तर और कच्छ का रण इस क्षेत्र में आते हैं.

Sponsored

घर और आफिस की मजबूती की करवाएं जांच
दिल्ली सरकार ने सभी लोगों के लिए एक सलाह जारी करते हुए कहा कि अपने घर और काम करने वाली जगह की मजबूती की जांच करवाएं। अगर जरूरत पड़े तो स्ट्रक्चरल इंजीनियर से सलाह लें और दरार व अन्य खिामयों को सही करवाएं। दिल्ली सरकार ने अपने परामर्श में कहा, ‘‘जांच कर लें कि आपके घर या ऑफिस के सभी फर्नीचर, जमीन, दीवार व छत से मजबूती के साथ सटे हों या बंधे हों। पहियों वाले फर्नीचर व कोई स्टोरेज उपकरण आदि जमीन पर जहां रखें हों, वहां वो अच्छे तरीके से लॉक किए गए हों।’’ भूकंप में अगर आप फंसे हैं, तो खुद आवाज लगाने की जगह आसपास की चीजों से आवाज करने का प्रयास करें।

Sponsored

इन चीजों से दूर खड़े रहें
यदि आप बाहर हैं तो, खुली जगह पर जाएं और पेड़, साइन बोर्ड, बिल्डिंग, बिजली के तार व खंभों से दूर रहें। दिल्ली सरकार ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि आपातकालीन किट जैसे टॉर्च, पॉवर बैंक व चार्जिग केबल, जरूरी दवाइयां, एलर्जी की बीमारी से सम्बंधित जानकारी, थोड़ा बहुत कैश, जरूरी पहचान पत्रों की फोटो कॉपी, अपने ब्लड ग्रुप की जानकारी व एलर्जी संबंधित जानकारी, ऐड किट, पानी का इंतजाम रखें। विशेषज्ञों के मुताबिक यदि भूकंप के दौरान कोई व्यक्ति अंदर हैं तो, ड्रॉप-कवर-होल्ड का अभ्यास करें। किसी मजबूत मेज या बेड के नीचे चले जाएं। एक हाथ अपने सिर पर रखकर उसे सुरिक्षत करें और दूसरे हाथ से फर्निचर को थाम लें। खिड़कियों, बुककेस, बुकशेल्फ, बड़े आकार के शीशे, लटकते हुए पौधे, पंखे और दूसरी भारी चीजों से दूर रहें। भूकंप के झटके रुकने तक अपने आपको इन चीजों से बचाए रखें। जब झटके रुक जाएं, तो अपने घर या स्कूल की इमारत से बाहर निकल कर खुले मैदान की ओर जाएं। दूसरों को धक्का न दें।

Sponsored

यह ख़बर बिल्कुल अभी आई है और इसे सबसे पहले आप Muzaffarpur Wow पर पढ़ रहे हैं. जैसे-जैसे जानकारी मिल रही है, हम इसे अपडेट कर रहे हैं. ज्यादा बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए आप इस खबर को रीफ्रेश करते रहें, ताकि सभी अपडेट आपको तुरंत मिल सकें. आप हमारे साथ बने रहिए और पाइए हर सही ख़बर, सबसे पहले सिर्फ Muzaffarpurwow.com पर…

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here