BIHARBreaking News

हाथरसः छह साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद मौत, मौसी के बेटे ने ही किया ‘गंदा काम’

हाथरस की एक और बेटी की दुष्कर्म के बाद मौत हो गई है. दरअसल, 15 दिन पहले सादाबाद क्षेत्र के मई जटोई निवासी 6 वर्षीय बालिका के साथ अलीगढ़ जिले के इगलास गांव में रेप की घटना हुई थी. लड़की का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था. लड़की की मौत हो गई है. घटना से गुस्साए परिजनों ने शव को सड़क पर रखकर जाम लगा दिया है.

Sponsored

परिजनों की मांग है कि जब तक सही आरोपी नहीं पकड़ा जाएगा और इगलास कोतवाल को निलंबित नहीं किया जाएगा, तब तक वे बच्ची का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे. मौके पर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स तैनात है. इस मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है, लेकिन परिवार का आरोप है कि पुलिस ने सही आरोपी को नहीं पकड़ा है.

Sponsored

Sponsored

प्रदर्शन करते स्थानीय लोग
लड़की के पिता ने कहा कि तीन महीने पहले मेरी दो लड़कियों को उसकी मौसी अपने घर लेकर गई थी. वहां पर मौसी के लड़के ने लड़की के साथ रेप किया. मेरी मांग है कि पुलिस मेरी बड़ी लड़की को वापस लाए और सही आरोपी को गिरफ्तार करे. अभी पुलिस ने गलत लड़के को गिरफ्तार किया है, जो मानसिक रूप से विक्षिप्त है.

Sponsored

लड़की के पिता ने इगलास के एसओ पर लापरवाही करने का आरोप लगाया है. मेरी कोई सुनवाई नहीं हो रही है. मेरी मांग है कि असली अपराधी को गिरफ्तार किया जाए और इगलास के एसओ को सस्पेंड किया जाए. पिता की शिकायत है कि जिला प्रशासन उसकी सुध नहीं रहा है.

Sponsored

इंस्पेक्टर को किया गया सस्पेंड

Sponsored

इस मामले में सादाबाद के डीएसपी ब्रम्हम सिंह ने कहा कि लड़की की मां की मौत हो गई थी. इसके बाद वह अपनी मौसी के साथ रहती थी. मौसी के लड़के ने घटना को अंजाम दिया है. इगलास के इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है और मामले की जांच की जा रही है. मौके पर अलीगढ़ के एएसपी भी मौजूद हैं.

Sponsored

Sponsored

हाथरस में ही दलित लड़की के साथ हुआ कथित गैंगरेप

Sponsored

हाथरस की ही दलित लड़की के साथ कथित गैंगरेप के मामले को लेकर पूरे देश में गुस्से और गम का माहौल है. चंदपा थानाक्षेत्र के एक गांव की रहने वाली दलित लड़की के साथ चार लोगों ने कथित गैंगरेप किया था और उसपर जानलेवा हमला किया था. कई दिनों तक जिंदगी और मौत से लड़ने के बाद दलित लड़की की सफदरगंज अस्पताल में मौत हो गई थी. इस मामले में आई मेडिकल रिपोर्ट ने भी रेप को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा करने का काम किया है.

Sponsored

इसके बाद पुलिस ने बिना परिवारवालों की मर्जी के लड़की का रात में अंतिम संस्कार कर दिया. पुलिस की इस हरकत के बाद मामला इतना तूल पकड़ा कि कांग्रेस सड़क पर उतर आई और राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा से लेकर सभी नेता हाथरस कूच करने लगे. भारी फजीहत के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने दलित लड़की के गांव में मीडिया से लेकर नेताओं की एंट्री बैन कर दी.

Sponsored

साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरे मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी. हालांकि, परिवार वाले लगातार जिला प्रशासन पर दबाव बनाने का आरोप लगाते रहे. गांव में मीडिया से लेकर नेताओं की नो-एंट्री पर कई दिनों तक बवाल चला और आखिर में बैकफुट पर आई यूपी पुलिस ने गांव के रास्ते को खोल दिया. इसके बाद परिवारवालों ने जिला प्रशासन की करतूत को बताया.

Sponsored

मामले में बढ़ते सियासी दबाव के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार ने दावा किया कि हाथरस कांड के बहाने उत्तर प्रदेश में जातीय हिंसा भड़काने की साजिश रची जा रही थी. इसके पीछे पीएफआई का नाम लिया जा रहा है. यूपी सरकार ने अपने दावे के बाद मथुरा से चार लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

Sponsored

Sponsored

Input: Aajtak

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here