Breaking News

सकरा में बिना लाइसेंस के फर्जी डॉक्टर चला रहे निजी नर्सिंग होम

 

मुज़फ्फरपुर जिले के सकरा में जगह-जगह खुले अवैध नर्सिंग होम पर कार्रवाई नहीं होने से लोगों की जिंदगी के साथ लगातार सौदा हो रहा है। प्रखंड का कोई ऐसा गांंव नहीं है जहां फर्जी क्लिनिक व नर्सिंग होम नहीं खुले हों। जिम्मेदार अधिकारी ऐसे अवैध नर्सिंग होम पर नकेल कसने में दिलचस्पी नहीं लेते हैं। बिना लाइसेंस के चल रहे ऐसे नर्सिंग होम में आए दिन मरीजों की मौत होती रहती है।

Sponsored


बिचौलिए व सरकारी अस्पतालों में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मी कमिशन एजेंट के रूप में काम करते हुए यहां मरीजों को पहुंचाते हैं, जहां बेगूसराय एवं पटना के डॉक्टरों द्वारा इलाज व ऑपरेशन का झांसा दिया जाता है। जबकि वहां न तो कोई डिग्री वाले डॉक्टर होते हैं और न ही प्रशिक्षित स्टाफ। यहां न तो रजिस्टर्ड लैब की सुविधा होती है और न ही दवा भंडारण का लाइसेंस। गौरतलब हो कि सकरा रेफरल अस्पताल के सटे मार्केट में निजी नर्सिंग होम का संचालन हो रहा है जिसके एक चिकित्सक डॉक्टर संतोष कुमार ने कहा कि उनके नर्सिंग होम का रजिस्ट्रेशन नहीं है बावजूद इसके करीब 2 वर्षों से सकरा क्षेत्र में नर्सिंग होम का संचालन कर रहे हैं उनका मानना है कि कार्रवाई वरिय महकमा के अस्तर से नहीं होती है जिस कारण क्षेत्र में नर्सिंग होम का संचालन हो रहा है ।उन्होंने बड़े सख्त लहजे में कहा कि निशा नर्सिंग होम में सिर्फ ओ पी डी का संचालन होता है जबकि सूत्रों का कहना है कि नर्सिंग होम में अवैध रूप से भ्रूण हत्या तक की जाती है । रात्रि में इस धंधा को किया जाता है । हैरत की बात यह है कि 24 घंटे सेवा देने वाली इस नर्सिंग होम में परिचारिका भी प्रशिक्षित नहीं जिससे मरीजों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है ।

Sponsored

U

Sponsored

एक मरीज मोहम्मद याकूब ने कहा कि नर्सिंग होम में आशा कार्यकर्ताओं के द्वारा जबरन ऑपरेशन के नाम पर भर्ती कराई जाती है तथा अधिक रकम लेकर साधारण डिलीवरी को भी ऑपरेशन युक्त बना दिया जाता है ।कभी तो मरीजों को गहना जेवर बेचकर चिकित्सकों को पैसा देना होता है ।चाइल्ड केयर के नाम पर संस्था को चलाया जाता है जबकि बच्चों की देख-रेख व उसको रखने की व्यवस्था उक्त नर्सिंग होम में थोड़ा भी नहीं है ।इसी तरह सकरा विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्रों में झोलाछाप चिकित्सकों के द्वारा निजी नर्सिंग होम का संचालन किया जा रहा है जिसके कारण गांव के सीधे-साधे लोग फस जाते हैं । क्षेत्र के दलालों को 10 से 15 हजार रुपये एक ऑपरेशन में बतौर कमीशन दिया जाता है । महिला नेत्री रिंकू देवी ने कहा कि क्षेत्र में अवैध रूप से सैकड़ों नर्सिंग होम का संचालन हो रहा है. जिसमें मरीजों का शोषण होता है । शुक्रवार को इस संदर्भ में चिकित्सा पदाधिकारी डां मसीहुद्दीन ने कहा कि सकरा में नर्सिंग होम का संचालन हो रहा है इसकी जानकारी उन्हें स्वास्थ्य विभाग के द्वारा नहीं दी गई है । वही स्वास्थ्य प्रबंधक संजीव कुमार ने बताया कि सकरा क्षेत्र में चल रहे निजी नर्सिंग होम के संदर्भ में वरीय महकमा के द्वारा रिपोर्ट मांगी गई थी अभी तक इस संदर्भ में कार्यवाही नहीं हो सकी है । वरीय महकमा के आदेश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Sponsored

Sponsored

सकरा थाना अध्यक्ष रामनाथ प्रसाद ने बताया कि सकरा में चल रहे निजी नर्सिंग होम के कारण लॉ एंड ऑर्डर की समस्या उत्पन्न हो जाती है अवैध नर्सिंग होम में चिकित्सकों के द्वारा मुंह मांगी रकम वसूली जाती है वही मरीजों का इलाज सही ढंग से नहीं किया जाता है ।उन्होंने कहा है कि इस संदर्भ में सीएस को पत्र लिखकर निजी नर्सिंग होम के संदर्भ में रिपोर्ट मांगेंगे . वैसे नर्सिंग होम जो रजिस्टर्ड नहीं है उनके खिलाफ कार्रवाई हेतु लिखा जाएगा।

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here