ADMINISTRATIONBIHARBreaking NewsBUSINESSFoodNationalPolitics

बिहार के शहद की डिमांड अमेरिका और जापान में सबसे ज्यादा बढ़ी, अब इन 3 जिलों में बनेंगे शहद प्रोसेसिंग प्लांट

बिहार राज्य के शहद देश के अन्य राज्यों के अलावा विदेशों में भी इसकी मांग बढ़ने लगी है। ऐसे में सरकार मधु निर्यात की संभावनाओं को देखते हुए विशेष मधु उत्पादन एवं विपणन नीति तैयार की है। शहद उत्पादन के मामले में बिहार देश के अन्य राज्यों में से एक है। हालांकि पिछले कुछ सालों में शहद उत्पादन में बिहार कई मुकाम हासिल किए हैं। वर्ष 2010 से लेकर अभी तक कई गुना वृद्धि हुई है।

Loading...
Sponsored

मौजूद समय में बिहार 18-20 हजार मीट्रिक टन शहद उत्पादन कर रहा है। दिल्ली, पंजाब, कोलकाता, मुंबई सहित अन्य राज्यों के साथ-साथ विदेशों में भी बिहार के शहद की मांग सबसे ज्यादा है। बिहार सरकार का यह दावा है कि अमेरिका एवं जापान में बिहार के शहद का डिमांड सबसे ज्यादा है। साथ ही शहद के जांच के लिए बिहार कृषि विश्वविद्यालय में शहद गुणवत्ता जांच लैब भी बनाने का निर्णय लिया है। अभी तक जांच के लिए पंजाब, दिल्ली या कोलकाता भेजी जाती था।

Loading...
Sponsored
प्रतीकात्मक चित्र

सहकारिता विभाग की सचिव वंदना प्रेयसी का कहना है कि बिहार के बाहर के व्यापारी आकर सस्ते दामों पर शहद खरीदते हैं और ले जाकर उसकी मार्केटिंग करते हैं, अतः इसे देखते हुए सरकार हनी के मार्केटिंग एवं प्रोसेसिंग की योजना तैयार की है। बिहार में 2010-11 में 7355 मेट्रिक टन शहद का उत्पादन होता था। जबकि 2011-13 में यह बढ़कर 8018 मेट्रिक टन हो गया।

Loading...
Sponsored

बिहार में वैशाली, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण और समस्तीपुर जिले में सबसे अधिक शहद उत्पादन किया जाता है। जीविका दीदी एवं हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट के द्वारा सबसे अधिक प्रोडक्शन किया जाता है। बिहार में लीची, सरसों एवं सहजन द्वारा बनने वाले शहद की डिमांड काफी अधिक है। ये शहद ब्लॉक लेवल पर तैयार किये जा रहे हैं। शहद उत्पादकों की कोऑपरेटिव सोसायटी भी है। बिहार के 20 जिलों के 197 प्रखंडों में सोसाइटी का गठन हो चुका है।

Loading...
Sponsored

बिहार राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित शहद प्रोसेसिंग प्लांट पटना, मुजफ्फरपुर और भागलपुर में बनया जाएगा। इसका प्रारूप तैयार कर लिया गया है। टेस्टिंग लैब नहीं होने के कारण शायद उत्पादकों की परेशानी होती थी। जिसे देखते हुए सरकार ने सबौर विश्वविद्यालय में टेस्टिंग लैब बनाने का फैसला लिया है। हालांकि भंडारण के लिए सभी प्रखंडों में शहद सोसाइटी को फूड ग्रेड प्लास्टिक कंटेनर दिया जा रहा है। बिहार में 22 सालों से पटना के फुलवारी शरीफ में मधुमक्खी पालन और शहद के व्यापार में लगी गीतू देवी का कहना है कि देश भर में बिहार के शहद का डिमांड सबसे ज्यादा है। उनके यहां से देशभर में शहद भेजा जाता है। साथ ही विदेशों में भी शहद जाता हैं। अब ऑनलाइन के माध्यम से भी लोग शहद मंगवा रहे हैं।

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here