Breaking NewsNational

जानिए क्यों भाईदूज पर होती है चित्रगुप्त महाराज की आराधना, ये है पूजा विधि और धार्मिक महत्व

दीपावली के पर्व के बाद हर साल भाईदूज मनाई जाती है। इन दिन महाराज चित्रगुप्त की पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यता के अनुसार यह दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि, जिसे यम द्वितीया भी कहा जाता है। इस तिथि को महाराज चित्रगुप्त की पूजा की जाती है। इस दिन ही भाई-बहनों का प्रमुख त्योहार भाईदूज भी मनाया जाता है। सनातन धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाराज चित्रगुप्त को हर मनुष्य के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा रखने वाले देवता के रूप में पूजा जाता है और भाईदूज के दिन महाराज चित्रगुप्त की लेखनी की विशेष रूप से पूजा की जाती है।

Sponsored

 

यह भी पढ़े

Sponsored

मनुष्य के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा रखने वाले चित्रगुप्त भगवान की ऐसे की जाती है पूजा, जानें क्या है इसका महत्व

Sponsored

 

जानिए कौन है महाराज चित्रगुप्त

सनातन धर्म में मान्यता है कि परमपिता परमेश्वर ब्रह्मा जी ने चित्रगुप्त महाराज को उत्पन्न किया था। ब्रह्मा जी की काया से महाराज चित्रगुप्त की उत्पत्ति हुई थी, इसी कारण उन्हें कायस्थ भी कहते हैं। चित्रगुप्त जी का विवाह भगवान सूर्य की पुत्री यमी से हुआ था, इसलिए वह यमराज के बहनोई हैं। यमराज और यमी सूर्य की जुड़वा संतान हैं। यमी बाद में यमुना हो गई और धरती पर आ गई।

Sponsored

Sponsored

 

चित्रगुप्त पूजा मुहूर्त 2020 में

इस वर्ष कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि का प्रारंभ 16 नवंबर 2020 को सुबह 7:06 बजे से होगा, जो 17 नवंबर को अल-सुबह 3:56 बजे तक रहेगा। ऐसे में यदि आप महाराज चित्रगुप्त का अर्चन करना चाहते हैं तो उनकी पूजा 16 नवंबर को करें। साथ ही इन दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6:45 से दोपहर 02:37 तक रहेगा। विजय मुहूर्त दोपहर 1:53 बजे से दोपहर 02:36 तक रहेगा। अभिजित मुहूर्त दिन में 11:44 बजे से दोपहर 12:27 बजे तक है। इस दौरान भी आप महाराज चित्रगुप्त की पूजा कर सकते हैं।

Sponsored

महाराज चित्रगुप्त की पूजा करने की संपूर्ण विधि इस प्रकार है –

Sponsored

भाई दूज के दिन अच्छी तरह से स्नान के बाद पूर्व दिशा में बैठकर एक चौक बनाएं। वहां पर चित्रगुप्त महाराज की प्रतिमा प्राण प्रतिष्ठा करें। इसके बाद पुष्प, अक्षत्, धूप, मिठाई, फल आदि अर्पित करें। चूंकी महाराज चित्रगुप्त लेखा-जोखा रखने वाले देवता है, इसलिए एक नई लेखनी या पेन उनको जरूर अर्पित करें। साथ ही कलम-दवात की भी पूजा करना चाहिए। इसके बाद कोरे सफेद कागज पर श्री गणेशाय नम: और 11 बार ओम चित्रगुप्ताय नमः लिखें। इसके बाद चित्रगुप्त महाराज का नमन कर आर्शीवाद लें।

Sponsored

 

महाराज चित्रगुप्त का प्रार्थना मंत्र

मसिभाजनसंयुक्तं ध्यायेत्तं च महाबलम्।

Sponsored

लेखिनीपट्टिकाहस्तं चित्रगुप्तं नमाम्यहम्।।

Sponsored

ॐ श्री चित्रगुप्ताय नमः मंत्र का भी जाप कर सकते हैं। पूजा-अर्चना के दौरान भी चित्रगुप्त प्रार्थना मंत्र का जाप करते रहें। चूंकि चित्रगुप्त पूजा के दिन बहन के हाथों भोजन ग्रहण करने का भी धार्मिक महत्व है। ऐसा करने से भाई दीर्घायु होते हैं। इसी कारण विवाहित बहनें भी भाईदूज के दिन अपने भाई-भाभी को विशेष तौर पर खाने के लिए आमंत्रित करती है और विशेष पकवान खिलाती है।

Sponsored

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here