AccidentBankBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPATNAPoliticsSTATEUncategorized

मुखिया बनने की चाह में 63 साल के बुड्ढे ने की दूसरी शादी, पहले से है 15 पोता-पोती और नाती-नातिन

बिहार में पंचायत चुनाव अपने परवान पर है. उत्साह ऐसा है कि लोग दूसरी शादी तक कर सपनों को साकार करने में जुटे हैं. आरक्षित सीटों पर चुनाव लड़ने के हिसाब से रिश्ते तय हो रहे हैं व लोग जीत भी रहे हैं. लोग किसी सूरत में चुनाव लड़ना व जीतना चाहते हैं.

Loading...
Sponsored

खुद नहीं तो अपनी पत्नी को चुनाव लड़वा रहे हैं. पत्नी नहीं लड़ सकती, तो दूसरी शादी भी कर रहे हैं. मुखिया बनने की चाह में कुछ लोग तो बूढ़े होकर भी इसके लिए युवतियों से अंतरजातीय विवाह कर रहे हैं कि नवविवाहिता को मैदान में उतार सकें. मुखिया नहीं तो मुखियापति ही बना जा सके.

Loading...
Sponsored

ताजा मामला है अररिया के पड़रिया पंचायत का है. वैसे तो यह पंचायत इस मायने में पिछले बार भी चर्चा में थी, लेकिन इस बार भी यहां अजब-गजब परंपरा का रूप ले लिया. सिकटी प्रखंड के पड़रिया पंचायत में मुखिया बनने के लिए बूढ़े मर्द अपनी पोती की उम्र की लड़कियों से शादी रचा रहे हैं.

Loading...
Sponsored

दरअसल यह पंचायत पिछले चुनाव में ही अत्यंत पिछड़ी जाति की महिलाओं के लिए आरक्षित कर दी गयी थी. इसके कारण पिछली बार ही ताहीर ने अत्यंत पिछड़ी जाति की एक युवती से शादी कर पंचायत चुनाव में उसे उतार दिया. उसकी नयी पत्नी नसीमा खातून 2016 में जीत दर्ज की और अभी वही निवर्तमान मुखिया है.

Loading...
Sponsored

ग्रामीणों का कहना है कि ताहीर ने निकाह के समय यह शर्त रखी थी कि यदि नसीमा खातून चुनाव जीत जाती हैं, तो वो उसे पत्नी के रूप में रखेगा, यदि चुनाव हार जाती हैं, तो पांच बीघा जमीन देकर उसे तलाक दे देगा. हालांकि वे 1904 मतों से चुनाव जीत गयी.

Loading...
Sponsored

इसबार ताहीर के रास्ते ही पूर्व पंसस जैनुद्दीन ने चलने का फैसला किया. नसीमा के खिलाफ उम्मीदवार उतारने के लिए अत्यंत पिछड़ी जाति की युवती साहीरा खातून से निकाह कर उसे चुनावी मैदान में उतारा है.

Loading...
Sponsored

63 साल के जैनुद्दीन मुखिया पद पर कब्जा करने के लिए अतिपिछड़ी जाति की युवती से निकाह रचा लिया है. जैनुद्दीन के 15 पोते-पोतियां औऱ नाती-नातिन हैं. घर में बुजुर्ग बीबी भी है, लेकिन वो अति पिछड़ी जाति से नहीं है. मो. जैनुद्दीन की पहली पत्नी उनके साथ रहती हैं. उन्हें 3 बेटे औऱ 4 बेटियां हैं. 9 पोता-पोती औऱ 6 नाती-नातिन है.

Loading...
Sponsored

मो. जैनुद्दीन कहते हैं कि वे इस दफे पंचायत के मुखिया पद पर कब्जा करना चाहते हैं, लेकिन रास्ते में बड़ी बाधा खडी थी. सरकार ने इस पंचायत को अति पिछड़ा वर्ग की महिला के लिए रिजर्व कर दिया था. मो. जैनुद्दीन अति पिछड़ा वर्ग से नहीं आते.

Loading...
Sponsored

लिहाजा उनके परिवार का कोई दूसरा सदस्य भी अति पिछड़ा वर्ग कोटे मे नहीं आ रहा था. ऐसे में मो जैनुद्दीन ने ताीहर का रास्ता चुना और अतिपिछड़ी जाति की एक कुंवारी लड़की से दूसरी शादी कर ली. उन्होंने अति पिछड़े वर्ग से आने वाली साहिरा खातुन चुनावी मैदान में उतार दिया है.

Loading...
Sponsored

सरकारी नियमों के मुताबिक शादी के बावजूद महिला की वही जाति मानी जाती है जो उसके पिता की होती है. यानि जैनुद्दीन से निकाह के बावजूद शाहिरा खातुन अति पिछड़े वर्ग की ही मानी जायेगी और मुखिया चुनाव लड़ सकेंगी.

Loading...
Sponsored

अररिया के जिला पंचायती राज पदाधिकारी किशोर कुमार कहते हैं कि अगर उसके नामांकन या विवाह संबंध पर कोर्ट में चैलेंज किया जाता है व कोर्ट में अवैध साबित होता है, तो निर्वाचन आयोग उसकी सदस्यता समाप्त कर सकता है. हम लोग नामांकन के बाद सामने स्थित तथ्य के आधार पर चुनाव लड़ने की अनुमति देते हैं.

Loading...
Sponsored

 

 

 

input – DTW 24

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here