ADMINISTRATIONBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPoliticsSTATE

बिहार के हेल्थ सेक्टर में मिलेगी बंपर नौकरी और रोजगार, नितीश सरकार का ये है प्लान

बिहार के हेल्थ सेक्टर में रोजगार के बंपर मौके मिलने वाले हैं। नीतीश सरकार हर एक लाख की आबादी पर तीन स्वास्थ्य केंद्र बनाने की तैयारी कर रही है। इससे नौकरी-रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

बिहार के हेल्थ सेक्टर में रोजगार की बहार आने वाली है। नीतीश सरकार का स्वास्थ्य विभाग साल 2022-23 में राज्य में स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव तैयार कर रहा है।

Sponsored

जिन स्वास्थ्य केंद्र की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव है उसमें प्राइमरी हेल्थ सेंटर, उप केंद्र और अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शामिल हैं। जाहिर है, जब जिले, शहर, कस्बों में जब ये स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे तो इनके लिए स्वास्थ्यकर्मियों और डॉक्टरों के नए पद सृजित करने पड़ेंगे।

Sponsored

स्वास्थ्य केंद्रों की मदद से लोगों का रोजगार

इसी तरह युवाओं को रोजगार और नौकरी के अवसर पैदा होंगे। साथ ही कई अन्य तरीकों से भी लोगों का रोजगार स्वास्थ्य केंद्रों की मदद से चलेगा।

Sponsored
Employment of people with the help of health centers
स्वास्थ्य केंद्रों की मदद से लोगों का रोजगार

बिहार में साल 2021-22 के आंकड़ों के अनुसार, प्रदेश में एक लाख की आबादी पर 12 स्वास्थ्य केंद्र हैं जिन्हें नीतीश सरकार बढ़ाकर 15 करने की योजना बना रही है।

Sponsored

एक लाख की आबादी पर अब 15 स्वास्थ्य केंद्र

यानी एक लाख की आबादी पर अब स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या 15 हो जाएगी। इससे एक जिले में ही काफी तादाद में स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे और युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बनेंगे।

Sponsored
Now 15 health centers for one lakh population
एक लाख की आबादी पर अब 15 स्वास्थ्य केंद्र

सूत्रों की मानें तो पहले बिहार के उन जिलों में स्वास्थ्य केंद्रों का निर्माण किया जाएगा जिनमें केंद्रों की संख्या अन्य जगहों से कम हैं।

Sponsored

सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात है कि इन जिलों में राजधानी पटना का नाम भी शामिल है। दूसरी ओर जिन जिलों में आबादी के अनुसार स्वास्थ्य केंद्र जरूरी संख्या में मौजूद हैं, उनमें जमुई, शिवहर और शेखपुरा जिला शामिल हैं।

Sponsored

Sponsored
Share this Article !

Comment here