BIHARBreaking NewsSTATE

बिहार में शुरू होगी नदियों को जोड़ने की योजना, पानी जांच कराने के लिए बनेगा प्लेटफॉर्म

अटल बिहारी वाजपेयी के शासन काल में नदियों को जोड़ने की परिकल्पना को मोदी सरकार फिर से शुरू कर रही है. इसके लिए देशभर में 31 जगहों पर नदियों को जोड़ने की योजना को चिह्नित किया गया है. शनिवार को एक होटल में आयोजित बिहार ग्राम संसद कार्यक्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने ये बातें कहीं.

Sponsored

गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि नदी जोड़ योजना का कार्यान्वयन जल्द शुरू होगा. देश में 31 योजनाओं में 18 योजनाएं बिहार के साथ अन्य राज्यों से जुड़ी हैं. इनमें आठ योजनाएं बिहार के अंदर नदियों को जोड़ने की है. इसकी शुरुआत कोसी मेची योजना से होगी है. इसकी तकनीकी स्वीकृति मिल चुकी है. इससे दो लाख हेक्टेयर भूमि को फायदा मिलेगा. मंत्री ने कहा कि 17 वीं शताब्दी में बिहार में ही बेतिया राज ने चंद्रावत नदी और गंडक नदी को जोड़ने की व्यवस्था की थी. उस समय पहली बार नदियों को जोड़ने का काम किया गया था.

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

मंत्री ने बताया कि जल शक्ति मंत्रालय पानी जांच कराने के लिए एक प्लेटफाॅर्म की शुरुआत करने जा रहा है. इसमें कोई भी व्यक्ति 25-30 रुपये देकर अपने पीने या खेत आदि के पानी की जांच करा सकता है. पानी जांच का काम भी महिलाएं ही करेंगी. प्रत्येक पंचायत में इसके लिए पांच-पांच महिलाओं को प्रशिक्षित किया जायेगा.

Sponsored

जदयू में होगा रालोसपा का विलय, उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार के फोन कॉल की बतायी बातें, जानें क्या कहा…
उन्होंने बताया कि इस्राइल व भारत के वैज्ञानिक मिल कर एक-एक सेंसर आधारित पानी सप्लाइ की शुरुआत करने जा रहे हैं. मंत्री ने बताया कि 22 मार्च को विश्व जल दिवस के दिन प्रधानमंत्री जल शक्ति से जुड़ी कई योजनाओं की शुरुआत करने जा रहे हैं.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: PK

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here