Sponsored
Breaking News

बिहार में गन्ने से बनेगा अब चॉकलेट, डब्बा बंद जूस और फास्ट फूड, सरकार बना रही गुड़ प्रसंस्करण पॉलिसी

Sponsored

पटना: गन्ने से गुड़-जूस और गुड़ से बने चाकलेट जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों को बाजार में उतारने के लिए राज्य में प्रसंस्करण उद्योग खड़ा करने की तैयारी की जा रही है. लिहाजा निवेशकों को आकर्षित करने के लिए गन्ना उद्योग विभाग विशेष प्रोत्साहन पॉलिसी बना रहा है.

Sponsored

निजी क्षेत्र को आकर्षित करने के लिए बनायी जा रही इस पॉलिसी में काफी वित्तीय छूट देने पर विचार चल रहा है. यहां तक कि पूंजीगत निवेश अनुदान 50 फीसदी तक हो सकता है. आधिकारिक जानकारों के मुताबिक गन्ना उद्योग विभाग की रणनीति है कि बाजार में विशेषकर गुड़ से बने उत्पाद मसलन चॉकलेट, टॉफी, गुड़ मिश्रित ड्राइफूड उत्पाद आदि खाद्य वस्तुएं बनायी जाएं.

Sponsored

Sponsored

इसी तरह पॉलिसी के तहत विभिन्न फलों के डिब्बा बंद जूस की तरह गन्ना रस की पैकेजिंग करने वाली इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के प्रावधान किये जा रहे हैं. अत्याधुनिक मशीनों को खरीदने पर भी अनुदान देने की पेशकश की जायेगी. इस तरह की मशीन मॉल, बड़ी दुकानों यहां तक कि ठेले पर भी लगायी जा सकेगी.

Sponsored

ठेले पर गन्ना का जूस बेचने वालों को बनायी जा रही पॉलिसी से काफी फायदा होगा. गन्ना जूस निकालने के लिए पेट्रोल से चलने वाली अत्याधुनिक मशीन हाल ही में काफी लोकप्रिय हुई है. दरअसल राज्य सरकार की रणनीति है कि गन्ना से इथेनॉल के अलावा या समानांतर गन्ना-गुड़ प्रसंस्करण उद्योग को बढ़ावा दिया जाये, ताकि अधिकतर स्थानीय लोगों को रोजगार मिले.

Sponsored

विभाग गन्ना और गुड़ के उत्पाद बनाने वाली औद्योगिक यूनिटों और निवेशकों को प्रोत्साहित करने के लिए पॉलिसी बना रहा है. इसके तहत छोटे-बड़े सभी निवेशकों को अनुदान और दूसरी वित्तीय सहायता उपलब्ध करायी जायेगी.

Sponsored

गन्ना उद्योग विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि सरकार की मंशा है कि गुड़ एवं गुड़ से बने तमाम उत्पाद मसलन चॉकलेट आदि फास्ट फूड बनाने वाली यूनिट बिहार में निवेश करें. इस पॉलिसी के तहत छोटे-छोटे निवेशकों को भी लाभ दिया जायेगा. इस दिशा में अपार संभावनाएं हैं, जिसका राज्य सरकार दोहन करना चाहती है.

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Editor

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored