Sponsored
Breaking News

पप्पू यादव बोले- हर जिले में पांच और अनुमंडल में शराब की एक दुकान खोले नीतीश सरकार

Sponsored

पटना| जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव (Pappu Yadav) ने शराबबन्दी को लेकर बिहार सरकार (Nitish Government) पर जमकर निशाना साधा है. जाप अध्यक्ष ने कहा कि शराबबंदी से पहले राज्य को शराब से साढ़े पांच हज़ार करोड़ की आय होती थी, लेकिन अब पांच वर्षों में शराब तस्करी का व्यापर 50 हज़ार करोड़ रुपए का हो गया है. मुख्यमंत्री अड़े हुए हैं कि शराबबंदी को रिव्यू नहीं करेंगे, क्या ऐसा नहीं हो सकता कि शराब पर 100 फीसदी का टैक्स लगा दिया जाए और जिले में पांच एवं अनुमंडल पर एक शराब की दुकान खुले?

Sponsored

पप्पू यादव ने पटना में कहा कि बिहार के हर पंचायत में शराब बनाने की भट्टी चल रही है. हर रोज जहरीली शराब से मौत की खबरें सामने आ रही हैं. हमारी मांग है कि शराब तस्करों को 6 महीने में स्पीडी ट्रायल कर आजीवन कारावास या फांसी की सजा दी जाए.

Sponsored

Sponsored

पप्पू यादव ने कहा कि हमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नियत पर शक नहीं है लेकिन उनकी इच्छाशक्ति को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. उनका मंत्रिमंडल और प्रशासन उनके हाथ से निकल गया है. सभी नेताओं और पुलिस वालों का ब्लड टेस्ट होना चाहिए, इससे पता चल जाएगा कि थाना में पुलिस वाले रोज शराब पीते हैं या नहीं? मैं इसकी जांच चाहता हूं. उन्होंने कहा कि शराब किनके संरक्षण में बिक रहा है, इसका पता लगाने के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता खुद आगे आकर अपना टेस्ट कराएं.

Sponsored

जहरीली शराब से होनी वाली मौतों के लिए जिम्मेदारी तय करने की मांग करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि उत्पाद मंत्री इसकी जिम्मेदारी कब लेंगे? कब एसपी, डीएसपी और दूसरे बड़े पदाधिकारियों को सस्पेंड किया जाएगा. विधानसभा, विधायकों के आवास, पुलिस हेडक्वार्टर के आस-पास शराब मिल रही है. क्या नीतीश कुमार कोई तारीख बताएंगे कि इस तारीख के बाद शराब की तस्करी बंद हो जाएगी?

Sponsored

पप्पू ने कहा हम एक डेडलाइन चाहते हैं और यदि डेडलाइन के बाद भी शराब मिलती है तो पूरा मंत्रिमंडल इस्तीफा दे. पप्पू यादव ने कहा कि दारू माफियाओं के कहने पर पुलिस निर्दोष लोगों को गिरफ्तार कर रही है. सरकार यह बताए कि अभी तक कितने शराब बेचने वालों को गिरफ्तार किया गया और संपत्ति जब्त की गई है.

Sponsored

पूर्व सांसद ने टीकाकरण पर भी सवाल उठाए और कहा कि जब तक 80 करोड़ लोगों को टीका नही मिल जाता है तब तक समाधान नहीं होगा. प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के टीका लेने से क्या कोरोना कम हो जाएगा.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: News18

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Editor

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored