BIHARBreaking NewsSTATE

कोरोना काल में घर लौटे 20 लाख कामगारों को बिहार में ही रोजगार देगी सरकार, जानिए योजना

लॉकडाउन का एक साल पूरा हो गया। लॉकडाउन में दूर-दूर से अप्रवासी कामगार बिहार लौटे थे। बिहार की नीतीश सरकार ने इन कामगारों को रोके रखने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। युवाओं के साथ-साथ कामगारों को कौशल विकास पर खासा फोकस किया जा रहा है और रोजगार-स्वरोजगार के ठोस उपाये जा रहे हैं।

Sponsored

औद्योगिक इकाइयों को विशेष प्रोत्साहन पैकेज
कोरोना काल में बाहर के राज्यों से लौटे करीब 20 लाख कुशल और अकुशल कामगारों को केंद्र में रख औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नीति – 2016 के संशोधन में विशेष रूप से ख्याल रखा गया है। यह औद्योगिक इकाइयां बाहर से लौटे कामगारों के जीविकोपार्जन एवं औद्योगिक क्रियाकलापों के नए अवसर उपलब्‍ध कराएगी उन्हें विशेष प्रोत्साहन पैकेज दिया जाएगा। इसमें नौ सेक्टरों को विशेष रूप से प्राथमिकता वाले क्षेत्र में शामिल किया गया है। इनमें फसल अवशेष पर आधारित उद्योग भी शामिल है। इसके अलावा फ्लाई एश से ईंट उत्पादन, धान के भूसा पर आधारित उद्योग, कृषि अवशेष पर आधारित उद्योग, ऑटोमोबाइल, रक्षा उपकरण निर्माण करने वाली अनुषंगी इकाइयां, आभूषण निर्माण, धातु एवं फेब्रिकेशन, खेल-कूद सामग्री निर्माण व दूरसंचार शामिल हैं।

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

20 फीसद नियोजन जरूर देगी ऑद्योगिक इकाई

Sponsored

उद्योग विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जो औद्योगिक इकाई बिहार के बाहर से लौटे कामगारों को अपने श्रमिक पूल में कम से कम 20 प्रतिशत नियोजन अनिवार्य रूप से देंगी, उन्हें विशेष प्रोत्साहन पैकेज का लाभ दिया जाने लगा है। तीन वर्षों में इन औद्योगिक इकाईयों को अपनी पूर्ण क्षमता के अनुरूप वाणिज्यिक उत्पादन करना होगा। बिहार लौटे कामगारों को रोके रखने के उद्देश्य से एक वर्ष के भीतर इन्हें अपनी क्षमता का 25 प्रतिशत तक ट्रायल उत्पादन करना होगा।

Sponsored

सभी जिलों में औद्योगिक एवं नव प्रवर्तन योजना
जिलाधिकारियों की देख-रेख में सभी जिलों में जिला औद्योगिक नव प्रवर्तन योजना चलेगी। इसके लिए जिलों को राशि उपलब्ध करायी जाएगी। इसके तहत सिलाई केंद्र की स्थापना, पेवर ब्लॉक उपकरण, हस्तकरघा बुनाई केंद्र, बढ़ाईगिरी केंद्र आदि शुरू होंगे।

Sponsored

लोक उपक्रम औद्योगिक क्लस्टर विकास
एक उच्च पदस्थ अधिकारी के मुताबिक राज्य के सभी लोक उपक्रम क्लस्टर आधारित विनिर्माण कार्यों के लिए जिलों को गोद लेंगे। क्लस्टर के तहत खाद्य प्रसंस्करण, परिधान निर्माण, फार्म मशीनरी, पेवर ब्लॉक, सिमेंट पोल, फर्निचर निर्माण, हस्तकरघा, हस्तकला व चमड़ा आधारित उद्योग की स्थापना होगी। पश्चिम चंपारण के चनपटिया में रेडीमेड गारमेंट्स कलस्टर का निर्माण प्रगति में है।

Sponsored

काष्ठ आधारित उद्योगों का अलग प्राथमिकता क्षेत्र
काष्ठ आधारित उद्योगों के लिए भी एक प्राथमिकता क्षेत्र तय किया गया है जिसमें लुगदी और कागज उद्योग, दियासलाई, टिंबर एवं चिरान लकड़ी, प्लाईवुड, बांस आधारित उद्योग, पार्टिकल बोर्ड उत्पादन फाइबर बोर्ड उत्पादन व वुड मूल्यवद्र्धन उद्योग शामिल है।

Sponsored

इलेक्ट्रिक गुड्स क्षेत्र को दिया जा रहा बढ़ावा
सरकार द्वारा निवेश के अवसर शीर्ष के तहत अब इलेक्ट्रिक जेनरेटर, ट्रांसफार्मर, इलेक्ट्रिक लाइटिंग उपकरण व वायङ्क्षरग उपकरण के विनिर्माण को शामिल किया गया है। इसमें कृषि क्षेत्र के लिए टिश्यू कल्चर, क्राप केयर केमिकल इकाईयांं भी शामिल हैं।

Sponsored

इंडस्ट्री के लिए तैयार किए जाएंगे कुशल युवा
श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार के मुताबिक मौजूदा औद्योगिक व्यवस्था के लिए युवाओं को तैयार किया जाएगा। इसकी प्लानिंग हो चुकी है। सरकार 20 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराने के लिए तेजी से आगे बढ़ रही है। सेंटर आफ एक्सीलेंस स्थापित जाने के साथ ही एडवांस टेक्नोलॉजी को प्राथमिकता दी जाएगी। इसमें मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ग्राफिक डिजाइन, रोबोटिक मेंटेनेंस, इलेक्ट्रिकल आदि की तकनीक में मशीनें लगाकर आइटी कंपनियों समेत अन्य इंडस्ट्री के सहयोग से आइटीआइ को और उन्नत बनाया जाएगा।

Sponsored

Sponsored

Input: JNN

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here