National

‘मिसाइल मैन’ डॉ० कलाम जिन्होंने युवाओं को दिया मानवता का पैगाम, सादगी-मेहनत-ईमानदारी और ज़हानत की अज़ीम मिसाल

एक ऐसी शख्सियत जो ‘जीने लायक धरती का निर्माण’ करना चाहते थे. जिनके बारे में दुनिया कहती थी कि वह मिसाइल बनाते थे लेकिन जब लोगों के बीच जाते थे तो सिर्फ पैगाम-ए-मोहब्बत के सिवा और कुछ नहीं देते थे. एक ऐसी हस्ती जो राष्ट्रपति तो थी लेकिन अपने व्यक्तित्व में इसे झलकने नहीं दिया. उन्होंने ‘आम लोगों के राष्ट्रपति’ बने रहना पसंद किया. जी हां कुछ ऐसे थे हमारे ग्यारवें राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम यानि अबुल पकिर जैनुलआबेदीन अब्दुल कलाम यानि अब्दुल कलाम.

Loading...
Sponsored

सिद्धांतों पर कदम बढ़ाने वाले कलाम जो आखिरी सांस तक देश की सेवा की ही बात कर रहे. देश के युवाओं को रिसर्च और इनोवेशन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए स्कूलों, कॉलेजों और सेमिनारों के जरिए छात्रों के बीच जाते रहे. उनकी बस यही सोच थी कि किसी भी तरह युवा पीढ़ी को समृद्ध किया जाए. युवाओं के बीच कार्यक्रम में अब्दुल कलाम कहा करते थे कि ‘लोग हमें तभी याद रखेंगे जब हम आने वाली पीढ़ी को एक समृद्ध और सुरक्षित भारत दे पाएं. इस समृद्धि का स्रोत आर्थिक समृद्धि और सभ्य विरासत होगी.’

Loading...
Sponsored

 

शिलांग में दिया अंतिम संबोधन

Loading...
Sponsored

शिलांग में जब छात्र-छात्राओं के बीच मंच से भाषण देने पहुंचे तो शायद ही किसी को अंदाजा होगा कि यह संबोधन उनका अंतिम हो. इस स्पीच के दौरान उन्होंने न सिर्फ मानवता को लेकर चिंता जाहिर की थी बल्कि धरती पर फैले प्रदूषण को लेकर भी चिंता जताई थी.

Loading...
Sponsored

आज भी लोग जब कुछ कठिन काम का हल निकाल लेते हैं तो कहते हैं कि ये कोई रॉकेट साइंस थोड़े है कि समझ में नहीं आएगा. जी हां उसी रॉकेट साइंस को डॉ कलाम लाखों स्कूली बच्चों के बीच ले गए और उसे सरल शब्दों में समझाया.

Loading...
Sponsored

डॉक्टर कलाम को कुछ लोग सफल वैज्ञानिक मानते हैं तो कुछ लोग सफल राष्ट्रपति. लेकिन, अगर सूक्ष्मता से देखा जाए तो न तो वे वैज्ञानिक के सांचे में फिट बैठते थे न ही राजनेता के सांचे में वे इन सभी से ऊपर एक सफल इंसान के रूप में दिखते थे.

Loading...
Sponsored

ऐसा नहीं कि डॉ कलाम का कार्यकाल पूरी तरह से निर्विवाद रहा. राज्यपाल बूटा सिंह की सिफारिश पर बिहार में साल 2005 में राष्ट्रपति शासन लगाया. बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले को खारिज कर दिया. डॉ कलाम उस दौरान देश के राष्ट्रपति थे.

Loading...
Sponsored

डॉ कलाम ने छोड़ी अमिट छाप

Loading...
Sponsored

एयरोनॉटिकल इंजीनियर के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाले डॉ कलाम ऐसी अमिट छाप छोड़ेंगे किसी को अंदाजा तक नहीं था. उन्होंने हिन्दुस्तान की दो बड़ी एजेंसियां डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ) और इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इसरो) में काम करते हुए शानदार सफलता हासिल की.

Loading...
Sponsored

भारत के पहले रॉकेट एसएलवी-3 को बनाने में डॉ अब्दुल कलाम ने अहम भूमिका निभाई तो वहीं पोलर सैटेलाइट लॉन्च वेहिकल (पीएसएलवी) के निर्माण में भी उनकी भूमिका काफी महत्वपूर्ण रही थी.

Loading...
Sponsored

भारत रत्न से सम्मानित डॉ कलाम ने भारत निर्मित पहले मिसाइल पृथ्वी और फिर उसके बाद अग्नि को बनाने में भी अहम योगदान दिया. साल 1998 में भारत ने परमाणु परीक्षण किया था उसमें भी डॉ कलाम की विशिष्ट भूमिका थी.

Loading...
Sponsored

गरीब परिवार में पैदा हुए थे डॉ कलाम

Loading...
Sponsored

स्कूली दिनों में अखबार बांटकर पढ़ाई के लिए पैसे जुटाने वाले कलाम देश के राष्ट्रपति पद तक पहुंचे. 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में मछुआरा परिवार में कलाम का जन्म हुआ था.

Loading...
Sponsored

भारतीय मिसाइल कार्यक्रम में अहम भूमिका निभाने के कारण उन्हें ‘मिसाइल मैन’ का नाम भी दिया गया. स्वदेशी तकनीक से बनी अग्नि और पृथ्वी मिसाइलों के विकास में उन्होंने काफी महत्वपूर्ण योगदान दिया. इतना ही नहीं डॉ कलाम की उपलब्धियों को लिखा जाए तो शायद लिखने वालों के लिए समय कम पड़ जाए.

Loading...
Sponsored

27 जुलाई 2015 को राष्ट्रपति डॉ कलाम उस ब्रह्मांड की ओर प्रस्थान हो गए जिसके बारे में कहा करते थे ”आसमान की ओर देखिए. हम अकेले नहीं हैं. ब्रह्मांड हमारा दोस्त है.” शायद यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि डॉ अब्दुल कलाम उन लोगों में से थे जिन्होंने राष्ट्रपती पद की एक नई परिभाषा गढ़ी. जिसे आने वाली पीढ़ियां याद करती रहेंगी.

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here