BIHARBreaking NewsMUZAFFARPURSTATE

Lalu Special ; बेहद खास है Lalu Yadav और राबड़ी देवी की लव स्टोरी है, जानिए रोचक कहानी

बिहार (Bihar) के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) का गुरुवार को 74वां जन्मदिन है। लालू यादव का जन्म गोपालगंज में फुलवरिया में 11 जून 1948 को हुआ था। लालू का जन्म निम्न मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ। पूर्व सीएम को शुरुआत के दिनों में तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ा। लालू यादव के परिवार के पास न तो रहने के लिए अच्छा घर था और ना ही अन्य सुविधाएं। लालू यादव 6 भाई-बहन हैं। लालू का परिवार दूध का कारोबार करता था, लेकिन इतनी कमाई नहीं होती थी कि सभी जरूरतें पूरी हो सकें।

Sponsored


Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

लेकिन इसके बावजूद लालू प्रसाद ने पढ़ाई की। लालू ने गोपालगंज से स्कूल की पढ़ाई की। इसके बाद वह राजधानी पटना आ गए और बीएन विश्वविद्यालय से लॉ में ग्रेजुएशन किया है। इसके साथ ही उन्होंने राजनीति शास्त्र में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। इसके बाद लालू यादव ने बिहार के पशु चिकित्सा कॉलेज में क्लर्क के रूप में नौकरी शुरू कर दी। लेकिन लालू को नौकरी पसंद नहीं आई। इसके बाद लालू यादव राजनीति में आ गए। लालू यादव जब ग्रेजुएशन कर रहे थे उसी दौरान वह छात्र संघ के महासचिव बने थे। साल 1990 में लालू यादव बिहार के मुख्यमंत्री बन गए। आज हम आपको लालू यादव और राबड़ी देवी की लव स्टोरी के बारे में बताते हैं।

Sponsored


Sponsored

लालू यादव और राबड़ी देवी की लव स्‍टोरी थोड़ी अलग है। लालू ने बताया है कि वह राबड़ी देवी से छिपकर मुलाकात की थी और उन्‍हें चिट्ठी भी लिखते थे, इस बात का जिक्र राबड़ी देवी भी कर चुकी हैं।

Sponsored


Sponsored

लालू से राबड़ी की शादी के लिए तैयार नहीं थे घरवाले
बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवे के परिवार वाले इस शादी के लिए तैयार नहीं थे। लेकिन राबड़ी के पिता को लालू यादव पसंद थे। राबड़ी देवी के परिवाले अमीर थे और उस लालू के परिवार के पास पैसों की कमी थी। लालू का घर झोपड़ी का खा। लालू के मुताबिक, जब तेज बारिश होती थी तब घर झरना बन जाता था। लेकिन राबड़ी देवी को इसका कभी अफसोस नहीं रहा। राबड़ी की इन्हीं बातों की वजह से लालू उनके दीवाने थे।

Sponsored


Sponsored

किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है लालू की शादी
लालू यादव और राबड़ी की शादी फिल्मी कहानी की तरह है। लालू यादव की जब शादी हुई तो वह 25 साल के थे और राबड़ी देवी सिर्फ 14 वर्ष की थीं और दोनों शादी अरेंज हुई है। लेकिन दोनों की शादी को लेकर लव मैरिज से भी ज्यादा बवाल मचा। जैसा कि ऊपर स्टोरी बताया है कि लालू एक सधारण परिवार से थे और राबड़ी देवी धनी परिवार से। लालू यादव को जरूरत को पूरा करने के लिए संघर्ष करना पड़ता था। लेकिन इसके बावजूद राबड़ी के पिता लालू की काबिलियत और शिक्षा को देखकर अपना दामाद बनाया। बेटी की लालू से शादी को लेकर घर में लोगों ने उनका विरोध किया, लेकिन वह अपने फैसले पर अड़े रहे। उस समय शिक्षित लड़का मिलना थोड़ा कठिन काम होता था।

Sponsored


Sponsored

शादी से पहले राबड़ी को देखा तक नहीं था लालू ने
आपको जानकर यह आश्चर्य होगा कि लालू यादने शादी से पहले राबड़ी को देखा नहीं था, लेकिन उन्होंने अपने एक दोस्त को राबड़ी के गांव भेजा था और उनके बारे में पता लगाया था। पहले गांव में लड़की को देखने परंपरा नहीं थी। लालू ने पटना में रहकर पढ़ाई की थी, इसलिए अपने दोस्त से पत्‍नी के बारे में जानकारी हासिल की थी। सबसे बड़ी बात कि शादी वाले दिन भी लालू पत्‍नी राबड़ी को नहीं देख पाए खे। घूंघट में ही पत्‍नी को उन्‍होंने सिंदूर लगाया था। राबड़ी गौना के बाद लालू के घर आई थीं।

Sponsored


Sponsored

राबड़ी को खुशी के मौके पर खास तोहफा देते हैं लालू
लालू और राबड़ी के प्यार बेहद खास है। राबड़ी को हर खास मौके पर लालू गुलाब का फूल देते हैं। उनका जन्मदिन हो या शादी की सालगिरह। लालू हर त्यौहार पर उनके साथ रहते हैं।

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Ads

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here