BIHARBreaking NewsPATNASTATE

CM नीतीश ने कैबिनेट बैठक में लिया बड़ा फैसला, स्कूल मालिकों के मनमानी पर लगेगी लगाम, यहां जानिए कैसे

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले नीतीश कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए हैं. शुक्रवार को बिहार मंत्रिमंडल की मीटिंग में उल 64 एजेंडों पर मुहर लगी है. इस बैठक में एक फैसला ऐसा भी लिया गया है, जिससे बिहार के प्राइवेट स्कूलों के मालिकों को झटका लगा है. राज्य के निजी विद्यालयों के मालिकों की मनमानी अब नहीं चलने वाली है क्योंकि नीतीश सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है.

Sponsored

बिहार विधान सभा चुनाव से पहले शुक्रवार को हुई नीतीश कैबिनेट की बैठक में राज्य के अंदर स्कूलों और शिक्षण संस्थाओं के सुरक्षित परिचालन को लेकर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. स्कूलों और शिक्षण संस्थाओं के संचालकों दिशा निर्देश जारी करने के लिए बिहार मोटर गाड़ी नियमावली 1992 के नियम 122 (2) और (3) के संशोधन पर मुहर लगी है.

Sponsored

नीतीश सरकार के इस बड़े फैसले से अब बिहार के स्कूल मालिकों को झटका लगा है. क्योंकि अब उनकी मनमानी नहीं चलने वाले है. स्‍कूली बच्‍चों के हित में भी बड़ा फैसला लेते हुए स्‍कूल बसों और अन्‍य वाहनों में क्षमता से अधिक बच्‍चों को बैठाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. यानी कि स्कूली वाहनों में सीट से अधिक नहीं स्कूली बच्चों को बैठाने पर जुर्माना लगेगा.

Sponsored

बिहार सरकार के इस फैसले के मुताबिक न सिर्फ जुर्माना ही भरना पड़ेगा बल्कि नियम तोड़ने वाली स्कूलों और शिक्षण संस्थाओं की गाड़ियों का लाइसेंस भी रद्द कर दिया जायेगा. सरकार ने जो फैसला किया है. उसके मुताबिक स्कूल बस और अन्य वाहनों में सीट की संख्या को लेकर बोर्ड भी लगाना होगा. इस फैसले के बाद अब स्कूल बसों में मौजूद सीटों से ज्यादा बच्चों को नहीं लिया जा सकेगा.

Sponsored

उधर चुनाव से ठीक पहले नीतीश सरकार ने आंगनबाड़ी सेविका, मिनी आंगनबाड़ी सेविका और आंगनबाड़ी सहायिका के राज्य भत्ता में बढ़ोतरी की है. आंगनबाड़ी सेविका के राज्य भत्ता में 300 रुपये, मिनी आंगनबाड़ी सेविका के राज्य भत्ता में 230 रुपये और आंगनबाड़ी सहायिका के राज्य भत्ता में 150 रुपये की बढ़ोतरी की है.

Sponsored

अगले साल 1 अप्रैल से आंगनबाड़ी सेविका, मिनी आंगनबाड़ी सेविका और आंगनबाड़ी सहायिका के राज्य भत्ता में बढ़ोतरी का लाभ मिलेगा. सरकार के इस फैसले के बाद अप्रैल 2021 से आंगनबाड़ी सेविका को 1450, मिनी आंगनबाड़ी सेविका को 1130 और आंगनबाड़ी सहायिका को 725 रुपये राज्य भत्ता के रूप में दिए जायेंगे. बिहार सरकार के इस फैसले से राजकोष पर 60 करोड़ 6 लाख 93 हजार रुपये का खर्च बढ़ेगा.

Sponsored

मदरसा बोर्ड और संस्कृत बोर्ड के शिक्षकों के वेतनमान में 15 फीसद की वृद्धि की सौगात दी गई. तालीमी मरकज, शिक्षा सेवक, रसोइया, किसान सलाहकार, विकास मित्र के मानदेय में वृद्धि की गई. तालीमी मरकज के मानदेय में एक हजार रुपये प्रतिमाह का इजाफा किया गया। अब उन्‍हें 11 हजार रुपये प्रतिमाह मिलेंगे.

Sponsored

महादलित विकास मिशन में लगे विकास मित्रों और किसान सलाहकारों का मानदेय बढ़ा दिया है. इसके साथ-साथ रसोइयों के राज्य भत्ता में भी बढ़ोतरी की गई है. सरकार की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक बिहार महादलित विकास मिशन के संचालन में लगे वीएक्स मित्रों के वेतन में 1200 रुपये की बढ़ोतरी की गई है. इसके आलावा वर्तमान में कर्मचारी भविष्य निधि खता में सरकार का अंशदान 1625 से बढाकर 1785 रुपये कर दिया गया है.

Sponsored

नीतीश सरकार ने किसान सलाहकार के मानदेय को भी बढ़ाया है. कैबिनेट की बैठक में किसान सलाहकार के मानदेय में 1000 रुपये की बढ़ोतरी पर मुहर लगी है. यानी कि अब किसान सलाहकारों को अगले साल 1 अप्रैल से 12000 रुपये की जगह 13000 रुपये हर महीने दिए जायेंगे. बिहार में रसोइयों के राज्य भत्ता में 150 रुपये की वृद्धि की गई है. अगले साल 1 अप्रैल से उन्हें हर महीने 1650 रुपये राज्य भत्ता के रूप में दिए जायेंगे.

Sponsored

Sponsored

Input: 1stBihar

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here