Sponsored
Breaking News

महज 10 रुपये में गांवों में मिलेगा LED बल्ब, ग्राम उजाला प्रोग्राम की हुई शुरुआत

Sponsored

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह (R K Singh) ने गांवों में सस्ती दर पर उच्च गुणवत्ता के एलईडी बल्ब (LED Bulb) उपलब्ध कराने की योजना ग्राम उजाला प्रोग्राम (Gram Ujala Programme) की शुरुआत शुक्रवार को की. प्रोग्राम के तहत सरकारी कंपनी एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लि. (EESL) की सब्सिडियरी यूनिट कनवर्जेन्स एनर्जी सर्विसेज लि. (CESL) गांवो में 10 रुपये प्रति बल्ब की दर से ग्रामीण परिवारों को एलईडी बल्ब उपलब्ध कराएगी.

Sponsored

पहले चरण में पांच राज्यों के गांवों में सस्ती दर पर दी जाएगी एलईडी बल्ब
सीईएसएल ने एक बयान में कहा कि प्रोग्राम के तहत पहले चरण में पांच राज्यों के गांवों में सस्ती दर पर एलईडी बल्ब उपलब्ध कराये जाएंगे। इस चरण में 1.5 करोड़ एलईडी बल्ब आरा (बिहार), वाराणसी (उत्तर प्रदेश), विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश), नागपुर (महाराष्ट्र) और पश्चिमी गुजरात के गांवों में ग्रामीण परिवारों को दिए जाएंगे. प्रोग्राम का फाइनेंस पूरी तरह से कार्बन क्रेडिट (Carbon Credits) के माध्यम से किया जाएगा और इस तरह का यह भारत का पहला प्रोग्राम है.

Sponsored

Sponsored

आरा जिले से योजना की शुरूआत

Sponsored

सिंह ने डिजिटल तरीके से बिहार के आरा जिले से इस योजना की शुरूआत की. इस मौके पर मंत्री ने कहा, ”यह हमारे लिए काफी खुशी का पल है कि हम गांवों में रहने वाले अपने लोगों को सस्ती दर और उच्च गुणवत्ता के एलईडी बल्ब उपलब्ध कराने का समाधान तलाशने में कामयाब हुए हैं. देश के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने में सीईएसएल ने जो अथक कार्य किया है, मैं उसके लिए उसकी सराहना करता हूं. मुझे भरोसा है कि यह प्रतिबद्धता और प्रयास देश के सभी गांवों में देखने को मिलेगा.”

Sponsored

ग्राहक अधिकतम 5 एलईडी बल्ब ले सकते हैं
ग्राम उजाला प्रोग्राम के तहत तीन साल की वारंटी के साथ 7 वाट और 12 वाट के एलईडी बल्ब ग्रामीण परिवारों को दिए जाएंगे. ये बल्ब पुराने परंपरागत बल्बों (इनकैनडेससेंट बल्ब) जमा करने पर दिए जाएंगे. ग्राम उजाला योजना के तहत ग्राहक अधिकतम 5 एलईडी बल्ब पंपरागत बल्ब देकर ले सकते हैं. इन ग्रामीण परिवारों के यहां मीटर भी लगा होगा.

Sponsored

बयान के अनुसार इस प्रोग्राम का भारत के जलवायु परिवर्तन को लेकर जारी कार्रवाई पर उल्लेखनीय प्रभाव पड़ेगा. इससे 202.5 करोड़ यूनिट (किलोवाट प्रति घंटा) सालाना बिजली की बचत होगी जबकि कार्बन उत्सर्जन में 16.5 लाख टन सालाना की कमी भी आएगी. इससे घरों में सस्ती दर पर बेहतर रोशनी मिलेगी.

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Editor

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored