Sponsored
Breaking News

बिहार में बढ़ते Corona संक्रमण के बीच नई Guidelines जारी, यहां जानिए पूरी डिटेल्स

Sponsored

बिहार में कोरोना से त्राहिमाम के बावजूद राज्य सरकार ने सूबे में लॉकडाउन नहीं लगाने का फैसला लिया है. सरकार ने लॉकडाउन के बदले शाम 6 बजे से इवनिंग कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया है. हालांकि सारी दुकानें शाम 4 बजे ही बंद हो जायेंगी. बिहार सरकार के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप ने ये फैसला लिया है. बिहार सरकार ने कोरोनो को लेकर कई सारे फैसले लिये हैं.

Sponsored




Sponsored

गौरतलब है कि मंगलवार को नीतीश कुमार ने सभी डीएम एसपी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की थी. इसके बाद ये तय किया गया था कि बुधवार को होने वाली क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में लॉकडाउन के बारे में फैसला लिया जाये. बिहार सरकार के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बुधवार की दोपहर बैठक हुई, जिसमें अहम फैसले लिये गये.

Sponsored


Sponsored

सरकार ने ये सब लिया है फैसला
राज्य सरकार ने शाम 6 बजे के बाद पूरे बिहार में इवनिंग कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया है. अभी रात 9 बजे से सुबह तक नाइट कर्फ्यू है. लेकिन अब शाम 6 बजे से ही नाइट कर्फ्यू रहेगा. लेकिन सारी दुकाने शाम 4 बजे तक ही खुली रहेंगी.

Sponsored

राज्य सरकार ने शादी ब्याह को लेकर भी लोगों की संख्या कम कर दी है. शादी ब्याह में अब सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो पायेंगे. अब तक शादी ब्याह में 100 लोगों के शामिल होने की अनुमति थी. वहीं, श्राद्ध में सिर्फ 25 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी. वहीं, अंतिम संस्कार में सिर्फ 20 लोग शामिल हो पायेंगे.

Sponsored


Sponsored

सरकारी या गैर सरकारी दफ्तरों में सिर्फ 25 फीसदी कर्मचारी ही एक दिन में काम पर आयेंगे. सरकारी कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम के लिए कहा जायेगा. शाम 4 बजे तक सारे सरकारी गैर सरकारी दफ्तर बंद हो जायेंगे.

Sponsored

सार्वजनिक परिवहन 50 प्रतिशत क्षमता के तहत चलेगा. यानि बस, ऑटो आदि पर क्षमता के सिर्फ आधे लोग ही बैठ पायेंगे.

Sponsored

रेस्टूरेंट रात 9 बजे तक खुले रहेंगे. लेकिन वहां बैठकर खाने की इजाजत नहीं होगी. लोग खाना पैक करा कर ले जा सकेंगे. होम डिलेवरी भी रात नौ बजे तक जारी रहेगा.

Sponsored


Sponsored

राज्य सरकार  कोविड से मरे हुए सभी व्यक्तियों का अंतिम संस्कार अपने खर्च पर करायेगी. इसमें वो भी लोग शामिल हैं जिनका टेस्ट निगेटिव आया था लेकिन उनमें कोविड वाले लक्षण थे.

Sponsored

माइकिंग के माध्यम से प्रचार कराते हुए कोरोना संक्रमण की स्थानीय स्थिति भी बतायी जायेगी. लोगों को माइक के जरिये बताया जायेगा कि उनके इलाके में कितने कोरोना मरीज है.

Sponsored

3 लाख कोरोना मरीज होने की स्थिति का आकलन करके इलाज की सारी व्यवस्था की जायेगी. उनके लिए बेड, ऑक्सीजन, वेंटीलेटर, आईसीयू की व्यवस्था होगी. उनके लिए डॉक्टर औऱ पैरा मेडिकल कर्मचारी की व्यवस्थी की जायेगी. उन्हेंकोविड के लक्षण वाले रोगी को भी अस्पताल में भर्ती किया जायेगा. उनके इलाज की व्यवस्था की जायेगी भले ही उनका कोविड टेस्ट निगेटिव आया हो.

Sponsored


Sponsored

सारे वेंटीलेटर को चालू किया जायेगा. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग औऱ डीएम व्यवस्था करेंगे. प्राइवेट सेक्टर का भी सहयोग लिया जायेगा. इसके लिए डीएम पहल करेंगे.

Sponsored

रेमडेसिविर औऱ दूसरी दवायें मरीजों को आसानी से मिल जाये इसकी व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी.

Sponsored

बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला स्तर पर एंबुलेंस किराये पर लिया जायेगा.

Sponsored


Sponsored

स्वास्थ्य विभाग हर दो दिन पर सभी जिलों के डीएम से कोरोना के संबंध में फीडबैक ले औऱ उचित निर्णय ले.

Sponsored

कोरोना के इलाज में लगे निजी अस्पतालों की समस्या निराकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग सिस्टम तैयार करे.

Sponsored

पिछले साल की तरह मुजफ्फरपुर में अस्थायी कोविड अस्पताल बनेगा.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Editor

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored