Sponsored
Breaking News

बिहार में होली के दिन दारु फ्री? इस पुलिसवाले ने अपने लिए 13 बोतल का किया इंतजाम

Sponsored

बिहार में पूर्ण रूप से शराबबंदी है. शराब के बेचने और पीने दोनों पर रोक है और इसकी जिम्मेदारी खाकी वर्दीवालों को दी गई है. 29 मार्च को होली है और होली की पूरी तैयारियां की जा रही हैं. लेकिन बिहार के सुपौल से एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसे जानकार आप हैरान रह जायेंगे. दरअसल होली को मजेदार बनाने के लिए एक पुलिसवाले ने अपने लिए 13 बोतल का इंतजाम कर लिया.

Sponsored

मामला सुपौल जिले के बीरपुर का है, जहां बीरपुर जेल में एक सिपाही को नशे की हालत में पकड़ा गया है. ये सिपाही वहां कक्षपाल की ड्यूटी करता है. जब पुलिस ने इसके कमरे की तलाशी ली तो इसके रूम से एक दर्जन से अधिक शराब की बोतलें पकड़ी गई. जिसे देखकर वहां मौजूद अन्य पुलिसवालों की नींद उड़ गई. ऐसे में कई सवाल उठते हैं कि आखिरकार जेल में ड्यूटी करने वाले इस कक्षपाल के पास इतनी मात्रा में शराब कहां से आई और क्यों किसी को कानों कान खबर तक नहीं मिली.

Sponsored

नीतीश सरकार ने जिन पुलिसवालों के कंधों पर शराबबंदी कानून को जमीन पर लागू करने की जिम्मेदारी दी है, वही पुलिसवाले सरकार और अपने डिपार्टमेंट की नाक कटाने पर तुले हुए हैं. विपक्षी सवाल उठा रहे हैं कि बिहार में शराबबंदी होने के बावजूद भी क्या बिहार में पुलिसवालों के लिए दारू को होली के दिन फ्री कर दिया गया है. क्या ऐसे पुलिसवालों के खिलाफ कठोर एक्शन नहीं लेना चाहिए.

Sponsored

Sponsored

गौरतलब हो कि बिहार के मुखिया नीतीश कुमार का कहना है कि जब तक वह मुख्यमंत्री हैं, तब तक लोग भूल जाये कि बिहार में फिर से शराब की बिक्री शुरू होगी. सीएम कई मौकों पर इस बात को दुहरा चुके हैं. लेकिन ये बात उनके सिपाही, दरोगा और जमादार के कानों तक शायद नहीं पहुंच रही हैं. विधिव्यवस्था की समीक्षा बैठक के क्रम में भी सीएम लगातार डीजीपी और अन्य सीनियर अफसरों के सामने दुहराते हैं कि वे हर हाल में शराबबंदी कानून को सख्ती से लागू करें.

Sponsored

गौरतलब हो कि पिछले ही महीने 15 फ़रवरी को मधनिषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग की बैठक में सीएम ने साफ़ निर्देश दिया है कि अगर कोई भी पुलिसवाला शराब पीते पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उसे तत्काल बर्खास्त कर दें. इस बैठक में मधनिषेध और उत्पाद विभाग के कमिश्नर बी कार्तिकेय धनजी, मंत्री सुनील कुमार, मुख्य सचिव दीपक कुमार, गृह सचिव आमिर सुबहानी और आईजी अमृत राज भी मौजूद थे.

Sponsored

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में शराबबंदी से पहले शराब का धंधा करने वाले अब क्या कर रहे हैं, विभाग इसकी जानकारी जुटाए. इसके अलावा उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जीविकोपार्जन योजना के तहत अधिक से अधिक लोगों को लाभ पहुंचे, इसकी भी समीक्षा की जाये.

Sponsored

मुख्यमंत्री ने आगे अधिकारियों को यह सख्त निर्देश दिया कि बिहार के पुलिसकर्मियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली है. अगर कोई भी पुलिसवाला शराब का सेवन करते हुए पकड़ा जाता है तो उसे तत्काल उसी समय डिसमिस कर दिया जाये. अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उसे तत्काल बर्खास्त कर दिया जाये. सीएम ने कहा कि सभी चौकीदारों को भी एक-एक चीज की जानकारी होती है. गड़बड़ी पाए जाने पर ऐसे चौकीदारों पर भी कड़ी कार्रवाई की जाये.

Sponsored

Sponsored

Input: FirstBihar

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Editor

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored