BIHARBreaking NewsSTATE

कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच नीतीश सरकार का बड़ा फैसला, रद्द की गई स्वास्थ्यकर्मियों की छुट्टियां

कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर बिहार का स्वास्थ्य विभाग फिर सतर्क हो गया है. वायरस के संक्रमण पर नियंत्रण पाने के लिए विभाग ने राज्य के सभी स्वास्थ्यकर्मियों की छुट्टियों पर रोक लगा दी है. वहीं 5 अप्रैल तक की सारी छुट्टियां भी रद्द कर दी गई है. जो भी स्वास्थ्यकर्मी छुट्टी पर गए हैं उन्हें तत्काल प्रभाव से फौरन वापस बुलाया गया है.

Sponsored

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव अनिल कुमार ने इस संबंध में निर्देश जारी किया है. उन्होंने यह निर्देश दिया है कि सूबे में जो भी चिकित्सा अधिकारी या स्वास्थ्यकर्मी अवकास पर गये हैं वो तुरंत काम पर वापस लौट जाएं. यह आदेश दो तरह के अवकास पर लागू नहीं होगा. जो भी कर्मी मातृत्व अवकास या अध्ययन अवकास पर गये हैं उन्हें इस निर्देश के दायरे से अलग रखा गया है.

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

जिन कर्मियों की छुट्टी रद्द की गई है उनमें सभी तरह के कर्मी आते हैं. निर्देश के तहत राज्य के सभी चिकित्सा पदाधिकारी से लेकर निदेशक प्रमुख तक भी इसमें शामिल हैं. वहीं हेल्थ ट्रेनर, एएनएम, पारा मेडिकल जीएनएम, लैब टेक्नीशियन सहित सभी चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी तक के लिए यह निर्देश जारी किया गया है.

Sponsored

बता दें कि बिहार में कोरोना के मामले अचानक बढ़ने लगे हैं. हालांकि अभी स्थिति नियंत्रण में है लेकिन बाहरी राज्यों में बढ़ते मामले और होली में बिहार वापस लौटने वाले लोगों के कारण सतर्कता बरती जा रही है. राजधानी पटना में संक्रमितों की संख्या अचानक बढ़ने लगी है. पिछले दो दिनों में जिले में संक्रमण के मामले करीब दोगुना बढ़े हैं जबकि 183 एक्टिव मामले अभी भी हैं.

Sponsored

बिहार में गुरुवार को किये गए कोरोना जांच के दौरान 107 नये पॉजिटिव मामले पाये गये. करीब डेढ़ माह के बाद फिर से संक्रमण का आंकड़ा 100 के पार गया है. जिससे प्रशासन की चिंता भी बढ़ चुकी है. 2 फरवरी के बाद संक्रमितों की संख्या में कमी आने लगी थी लेकिन अचानक 44 दिनों के बाद फिर मामले बढ़ने लगे हैं.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: PK

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here