BIHARBreaking NewsSTATE

होलिका दहन पर ये एक गलती कर देगी कंगाल, 7 अशुभ बातों का भी रखें ख्याल

भगवान विष्णु ने जब नरसिंह का अवतार लेकर भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी, तब से ही होली का त्योहार मनाने की परंपरा चली आ रही है. होली का पर्व दो दिन मनाया जाता है. पहले दिन होलिका दहन किया जाता है और दूसरे दिन रंग वाली होली खेली जाती है. इस बार होलिका दहन रविवार, 28 मार्च को किया जाएगा. ज्योतिर्विद रजत शर्मा के मुताबिक, होलिका दहन के दिन 10 काम बेहद अशुभ समझे जाते हैं.

Sponsored

होलिका दहन के दिन किसी को भी पैसे उधार देने की गलती न करें. इस दिन रुपए-पैसे का लेन-देन करने से घर में पूरे साल धन की कमी रहती है. ऐसा करने से घर की सुख-समृद्धि में भी कमी आती है.

Sponsored

यदि किसी महिला का सिर्फ एक पुत्र है तो उसे होलिका दहन की अग्नि प्रज्वलित नहीं करनी चाहिए. हालांकि अगर किसी महिला की एक पुत्री और एक पुत्री है तो वो होलिका दहन की अग्नि प्रज्वलित कर सकती है.

Sponsored

होलिका दहन के दिन सफेद चीजें खाने से सख्त परहेज करना चाहिए. इस दिन भूलकर भी सफेद चीजों का सेवन न करें. सफेद चीजों से नकारात्मक शक्तियां जल्दी आकर्षित हो जाती हैं. इसलिए सफेद मिठाई, खीर, दूध, दही या बताशे आदि का सेवन न करें.

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

होलिका दहन में आम, वट और पीपल की लकड़ी जलाना बेहद अशुभ समझा जाता है. दरअसल इस मौसम में इन तीनों ही पेड़ों में नई कोपलें आने लगती हैं, इसलिए इन्हें जलाना सही नहीं माना जाता है. आप गूलर या अरंड के पेड़ की लकड़ी का ही इस्तेमाल करें. इसके अलावा उपले का भी प्रयोग कर सकते हैं.

Sponsored

ज्योतिर्विद के मुताबिक, होलिका दहन के दिन महिलाओं को सिर ढककर ही रहना चाहिए. वे चाहें तो अपने पुत्र की दीर्घायु के लिए इस दिन उपवास भी कर सकती हैं. ऐसा करने से भगवान श्री कृष्ण की विशेष कृपा मिलती है.

Sponsored

होली के दिन अपनी माता का अपमान करने से आपको जीवन में दरिद्रता का सामना करना पड़ सकता है. इस दिन अपनी माता को उपहार दे सकते हैं. ऐसा करने से भगवान श्रीकृष्ण की कृपा से आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और उन्नति के नए मार्ग प्रशस्त होंगे.

Sponsored

ज्योतिषाचार्य के अनुसार, होलिका दहन के दिन व्यक्ति को अपने परिवार सहित गेहूं और गुड़ से बनी रोटी खानी चाहिए. इस दिन काले चने का सेवन करने से भगवान शनिदेव की विशेष कृपा मिलती है.

Sponsored

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त- इस बार होलिका दहन पर भद्रा का साया नहीं होगा, जो कि काफी शुभ है. 28 मार्च को शाम 6 बजकर 36 मिनट से रात साढ़े 8 बजे तक बेहद शुभ योग है. वहीं 8 बजकर 3 मिनट से रात साढ़े 9 बजे तक अमृत काल लगेगा. शास्त्रों की मानें तो यही होलिका दहन का सबसे उचित समय होगा.

Sponsored

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here