BIHARBreaking NewsSTATE

आयशा को इंसाफ दिलाएंगे पिता, कहा- नहीं करूंगा माफ, दामाद को फांसी पर चढ़ाने की मांग

अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रन्ट पर पहले वीडियो बना कर अपने पति से प्यार का इजहार और फिर नदी में कूदकर जाने देने वाली आयशा तो आपको याद ही होगी. उसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था. अब इस मामले में आयशा के पिता ने साफ कर दिया है कि जाने से पहले भले ही आयशा ने अपने शब्दों में पति को माफ कर दिया लेकिन वो किसी को माफ नहीं करेंगे और उसे फांसी की सजा दिलाकर रहेंगे.

Sponsored

बता दें कि आयशा के आत्महत्या करने के बाद इस मामले में आरोपी पति आरिफ को पुलिस ने राजस्थान से गिरफ्तार किया है. उसे अहमदाबाद लाया जाएगा. अब आयशा के परिवार वाले आरिफ के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहे हैं. आयशा के पिता लियाकत अली मकराणी अपनी बेटी की मौत के लिए जिम्मेदार दामाद आरिफ को बख्शने के मूड में नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘चाहे कोई कुछ भी दे दे लेकिन वो अपनी बेटी की मौत के लिए जिम्मेदार उसके हत्यारों को कभी भी माफ नहीं करेंगे’. उन्होंने कहा कि मेरी बेटी को आत्महत्या के लिए मजबूर किया गया.

Sponsored

Muzaffarpur Wow Ads Insert Website

Sponsored

लियाकत अली मकराणी ने कहा, ‘मेरी बेटी को दहेज के लिए इतना सताया गया कि उसे ससुराल वालों ने तीन-तीन दिन तक खाना नहीं दिया. मेरी बेटी फोन पर अपने दिल का हाल और खुद पर हो रहे अत्याचार को ना बता सके इसलिए उसका फोन भी छीन लिया गया था. मेरी बेटी को आत्महत्या के लिए उसके पति ने मजबूर किया था. उन्होंने कहा, बेटी ने उन्हें बताया था कि ससुराल वाले उसे बेहद परेशान कर रहे हैं और मैं इन सबसे थक गयी हूं. इसके बाद मैं जालोर जाकर उसे अपने साथ अहमदाबाद ले आया था. इसके बाद 21 अगस्त को अहमदाबाद के वटवा में आयशा ने अपने पति आरीफ खान, सास, ससुर, ननद के खिलाफ घरेलू हिंसा का केस भी दर्ज करवाया था. उन्होंने कहा कि वो उसके सभी सुसराल वालों को जेल में देखना चाहते हैं.

Sponsored

लियाकत अली मकराणी ने कहा, ‘मेरी बेटी को दहेज के लिए इतना सताया गया कि उसे ससुराल वालों ने तीन-तीन दिन तक खाना नहीं दिया. मेरी बेटी फोन पर अपने दिल का हाल और खुद पर हो रहे अत्याचार को ना बता सके इसलिए उसका फोन भी छीन लिया गया था. मेरी बेटी को आत्महत्या के लिए उसके पति ने मजबूर किया था. उन्होंने कहा, बेटी ने उन्हें बताया था कि ससुराल वाले उसे बेहद परेशान कर रहे हैं और मैं इन सबसे थक गयी हूं. इसके बाद मैं जालोर जाकर उसे अपने साथ अहमदाबाद ले आया था. इसके बाद 21 अगस्त को अहमदाबाद के वटवा में आयशा ने अपने पति आरीफ खान, सास, ससुर, ननद के खिलाफ घरेलू हिंसा का केस भी दर्ज करवाया था. उन्होंने कहा कि वो उसके सभी सुसराल वालों को जेल में देखना चाहते हैं.

Sponsored

आयशा ने आत्महत्या करने से पहले साबरमती नदी रिवर फ्रंट पर जो वीडियो बनाया था उसमें वो कह रही थी, ‘जितनी भी जिंदगी मिली, सुकून है. अब वह खुदा से मिलना चाहती है. मैं हवाओं की तरह हूं, बस बहते रहना चाहती हूं. किसी के लिए नहीं रुकना, मैं खुश हूं कि आज के दिन जिन सवालों के जवाब चाहिए थे, वे मिल गए और मुझे जिसको जो बताना था, बता चुकी हूं. थैंक्यू, मुझे दुआओं में याद रखना. पता नहीं, जन्नत मिले न मिले. चलो अलविदा’

Sponsored

जानकारी के मुताबिक आयशा के नदी में कूदने के बाद जब रिवरफ्रंट पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की तो उसमें सामने आया कि आयशा ने मरने से पहले अपने पति आरिफ के साथ 70 मिनट तक बात की थी. हालांकि, उस दौरान दोनों के बीच क्या बातचीत हुई थी और आरिफ ने उससे क्या कहा ये अभी तक पता नहीं चल पाया है. पुलिस इस बात की जांच में जुटी हुई है.

Sponsored

दरअसल ,आयशा पिछले कुछ महीनों से अपने पिता के घर पर ही रह रही थी, उसका पति आरिफ उससे दहेज की मांग करता था, यही नहीं पैसे ना देने पर उसे बुरी तरह पीटता भी था. ऐसा आयशा के पिता ने दावा किया है. अब आयशा की मौत के बाद पिता बेटी को न्याय दिलाने की गुहार लगा रहे हैं. उन्होंने कहा आयशा को न्याय तब ही मिल पाएगा जब आयशा को मौत देने वाले को सजा मिलेगी और वो सजा ऐसी होनी चाहिए जिससे कभी किसी दूसरे की बेटी को आत्महत्या के लिए मजबूर ना होना पड़े. अब अहमदाबाद में जस्टिस फॉर आयशा के लिए कैंपेन चलाकर न्याय की मांग हो रही है.

Sponsored

Sponsored

Sponsored

Input: IT Network

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here