BIHARBreaking NewsSTATE

10वीं में सिर्फ 44.5 प्रतिशत मिले, घर पे लाइट नहीं रहने के बावजूद मेहनत और लगन से बना IAS अधिकारी

जो युवा आईएएस अधिकारी बनने का सपना देखते हैं. उनके लिए 2009 बैच के IPS अधिकारी अवनीश शरण एक मिसाल हैं. अवनीश को 10वीं में सिर्फ 44.5 प्रतिशत अंक मिले थे. बावजूद इसके उन्होंने आईएएस अधिकारी बनने का सपना देखा और खुद को स्कूली दिनों से ही तैयार करना शुरू कर दिया था. आगे 65 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं और 60.7 फीसदी नंबरों के साथ ग्रेजुएशन की परीक्षा पास कर वो अपनी तैयारी में जुट गए.

Loading...
Sponsored


Loading...
Sponsored

अवनीश ने यूपीएसी की तैयारी करते समय तमाम तरह की कठिनाईयों का सामना किया. अपने एक इंटरव्यू के दौरान अवनीश ने बताया था कि उनका जीवन बहुत ही संघर्ष भरा रहा है. घर में लाइट नहीं होने के कारण उन्हें लालटेन की रोशनी में अपनी पढ़ाई करनी पड़ी. हालांकि, वो कभी भी निराश नहीं हुए. अंतत: अपनी मेहनत, लगन वो आईएएस बनने में सफल रहे . यूपीएसी में 77 रैंक लाकर उन्होंने अपने परिवार का नाम रोशन किया था.

Loading...
Sponsored


Loading...
Sponsored

मौजूदा समय में अवनीश शरण एक जाने-माने आईएएस हैं. सोशल मीडिया पर उन्हें लाखों की संख्या में लोग फॉलो करते हैं. अपने काम के लिए वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सम्मानित किए जा चुके हैं. साल 2017 में उन्होंने अपनी बेटी वेदिका का दाखिला एक सरकारी स्कूल में कराकर खूब सुर्खियां बटोरीं थीं. इसके अलावा पत्नी की सरकारी अस्पताल में डिलीवरी कराकर उन्होंने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा था.

Loading...
Sponsored


Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here