AccidentBIHARBreaking NewsNationalSTATE

सड़क के रास्ते बिहार से दिल्ली जाने वाले सावधान, NH 2 पर कभी भी लग सकता है ब्रेक, जानें वजह

दिल्ली से कोलकाता को जोड़ने वाले एनएच 2 (NH-2) पर कभी भी ब्रेक लग सकता है. दरअसल कैमूर के एनएच 2 कर्मनासा नदी पर बना अस्थायी स्टील ब्रिज जर्जर हो गया है जो कभी भी टूट सकता है. नदी पर बने पुल को दुरुस्त तो कर लिया गया है लेकिन एनएचएआई ने वाहनों को चलाने से रोक लगा दिया है.

Sponsored

 

तीन जिलों के डीएम को लिखा पत्र

Sponsored

 

अधिकारियों का कहना है कि पहले प्रशासन ओवर लोडिंग बालू पर रोक लगाए तभी हम गाड़ियों को जाने देंगे. एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने इसको लेकर कैमूर रोहतास और औरंगाबाद डीएम को पत्र भेजकर फिर एक बार आगाह किया कि जब तक ओवर लोडिंग वाहन नहीं रुकेगा तो पुल डैमेज होते रहेगा।

Sponsored

Sponsored

 

एक साल पहले भी आया था दरार

Sponsored

बता दें कि एक साल पहले एनएच2 कर्मनासा नदी पर बना पुल का एक पाया में दरार आने से तत्काल वाहनों को पुल से पार करने पर रोक लगा दिया था, जिससे दो माह तक बिहार उत्तर प्रदेश से सम्पर्क टूट गया था फिर पुल का दो ओर डायवर्सन बना गया गया जिसमें 16 करोड़ का लागत लगा. इसके बाद स्टील ब्रिज बनाया गया जिसमें 8 करोड़ का खर्च आया.

Sponsored

 

ओवर लोडिंग है मुख्य वजह

Sponsored

स्टील ब्रिज बनने के साथ एनएचएआई ने बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार को आगाह किया कि आप ओवर लोडिंग बालू वाले ट्रक पर रोक लगाए क्योंकि स्टील ब्रिज की क्षमता 50 से 60 टन का भार सहन कर सकता है उसके बाद भी लगातार ओवर लोडिंग वाहन चलते रहे जिससे 6 माह में ही स्टील ब्रिज कई जगह टूट गया उसी पर वाहन जा रहा कभी भी बड़ा हादसा होने की सम्भावना बनी है.

Sponsored

 

कांग्रेस ने उठाए सवाल

Sponsored

दूसरी तरफ मामला यह भी है 2010 में करोड़ो के लागत से बना नदी पर पुल 9 साल में कैसे टूटा तो वही एनएचएआई ने ओवर लोडिंग का हवाला देते हुए मात्र एक साल में नदी पर पुल और मरमती, स्टील ब्रिज, डायवर्सन पर 34 करोड़ खर्च कर डाला. इस समस्या को लेकर अब बिहार सरकार के खिलाफ राजनीति भी गर्म होने लगी है. कैमूर जिले के कोंग्रेस नेताओं ने डीएम ,एनएचएआई, बिहार सरकार से जल्द ओवर लीडिंग पर रोक लगाने और परिचालन बहाल करने को कहते हुए ऐसा नहीं होने पर एनएच 2 पर आंदोलन की धमकी दे डाली है.

Sponsored

 

 

क्या कहते है एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर

Sponsored

एनएचएआई के योगेश गढ़वाल का कहना है कि जो पुल डैमेज हुआ था उसको नए सिरे से बनाया गया जिसमें 6 माह का समय लगा अभी पुल पर क्षमता के अनुसार वाहन जा सकता है पर प्रशासन को ओवर लोडिंग पर रोक लगाना होगा नहीं तो हम पुराने पुल जिसकी मरमती कराई गई है उस पर वाहन चलाने नहीं देंगे. एनएचएआई ने पहले भी बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार की आगाह किया था कि बालू वाहन के ओवर लीडिंग रोकी जाए पर एनएच 2 पर कई विभाग बालू माफियाओं से मिलकर बालू पार कराते रहे जिससे सरकार को करोड़ो का नुकसान होता है

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here