AccidentBankBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPATNAPoliticsSTATEUncategorized

यहां हुआ था चंड-मुंड का वध, 1900 साल से हो रही है पूजा

शारदीय नवरात्र का पावन समय चल रहा है. मंदिरों में आस्था का जमघट लगा हुआ है. इसी कड़ी में आपको ले चलते हैं बिहार के उस देवी स्थल की ओर, जिसका अपना अलग ही धार्मिक महत्व है.

Loading...
Sponsored

कैमूर की पहाड़ी पर स्थित है मंदिर

Loading...
Sponsored

बिहार के कैमूर जिले में स्थित है महामाई मुंडेश्वरी धाम. कहते हैं कि देवी मां ने युगों पहले यहीं पहाड़ी पर चण्ड मुंड नाम के राक्षसों का वध किया था. बिहार के भभुआ जिला केद्र से चौदह किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित है कैमूर की पहाड़ी. साढ़े छह सौ फीट की ऊंचाई वाली इस पहाड़ी पर माता मुंडेश्वरी एवं महामण्डलेश्वर महादेव का एक प्राचीन मंदिर है.

Loading...
Sponsored

दुर्गासप्तशती में है वर्णन

Loading...
Sponsored

इस बारे में दुर्गासप्तशती में भी कथा आती है. कहते हैं कि चंड-मुंड के नाश के लिए जब देवी उद्यत हुई थीं तो चंड के विनाश के बाद मुंड युद्ध करते हुए इसी पहाड़ी में छिप गया था और यहीं पर माता ने उसका वध किया था. इसीलिए यहां देवी मुंडेश्वरी माता के नाम से स्थानीय लोगों में जानी जाती हैं.

Loading...
Sponsored

1900 सालों से हो रही है पूजा

Loading...
Sponsored

मुंडेश्वरी मंदिर की प्राचीनता का महत्व इस दृष्टि से और भी अधिक है कि यहां पर पूजा की परंपरा 1900 सालों से लगातार चली आ रही है और आज भी यह मंदिर पूरी तरह जीवंत है.

Loading...
Sponsored

भारत का सबसे प्राचीन मंदिर

Loading...
Sponsored

यह मंदिर भारत का सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है. मंदिर परिसर में विद्यमान शिलालेखों से इसकी ऐतिहासिकता प्रमाणित होती है. 1838 से 1904 ई. के बीच कई ब्रिटिश विद्वान व पर्यटक यहां आए थे. प्रसिद्ध इतिहासकार फ्रांसिस बुकनन भी यहां आए थे. मंदिर का एक शिलालेख कोलकाता के भारतीय संग्रहालय में है. पुरातत्वविदों के अनुसार यह शिलालेख 349 ई. से 636 ई. के बीच का है.

Loading...
Sponsored

कुछ गड़रिये ने खोजा था मंदिर

Loading...
Sponsored

इस मंदिर का उल्लेख कनिंघम ने भी अपनी पुस्तक में किया है. उसमें स्पष्ट रूप से उल्लेख है कि कैमूर में मुंडेश्वरी पहाड़ी है, जहां मंदिर ध्वस्त रूप में विद्यमान है. इस मंदिर का पता तब चला, जब कुछ गडरिये पहाड़ी के ऊपर गए और मंदिर के स्वरूप को देखा. प्रारम्भ में पहाड़ी के नीचे निवास करने वाले लोग ही इस मंदिर में दीया जलाते और पूजा-अर्चना करते थे. धीरे-धीरे लोगों की भी मान्यता बढ़ी. आज नवरात्र में श्रद्धालु पूजा करने जुटते हैं.

Loading...
Sponsored

 

 

 

input – DTW 24

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here