ADMINISTRATIONBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPoliticsSTATE

बिहार में 7वें चरण शिक्षक बहाली के लिए करना होगा और इंतजार, जाने किस वजह से हो सकती है देरी

बिहार के शिक्षक अभ्यर्थियों को सातवें चरण की प्राथमिक शिक्षक नियोजन के लिए कुछ और इंतजार करना होगा। बता दें कि अभी तक प्राथमिक शिक्षक नियोजन के लिए एवं नियोजन इकाई से खाली पदों के संदर्भ में जानकारी नहीं उपलब्ध कराई गई है। प्रदेश के सभी जिलों से इसकी सूची प्राथमिक शिक्षा निदेशालय को सौंपा जाना था। खाली पदों की सूची भेजने के लिए आखिरी तारीख 30 जून निर्धारित था, लेकिन अभी तक यह पूरा नहीं हो सका है।

Sponsored

मिली खबर के मुताबिक, यह काम इसी महीने के अंतिम तक पूरा हो सकेगा। पहले के शेड्यूल के अनुसार, रोस्टर क्लीयरेंस करने का लास्ट डेट 15 जुलाई तक था। लेकिन इस निर्धारित अवधि के अंदर काम नहीं हो पाएगा जिस वजह से सातवें चरण की बहाली प्रक्रिया में और देरी होगी। इसके अलावा एनआईसी पोर्टल पर नियोजन इकाई के रिक्त पदों के बारे में सूची अपलोड करनी है। इसमें देरी हो सकता है। पहले कहा गया था कि एनआईसी पोर्टल पर 25 जुलाई तक डाटा अपलोड कर लिया जाएगा।

Sponsored
प्रतीकात्मक चित्र

वहीं, शिक्षक अभ्यर्थियों में बहाली को लेकर बेचैनी और बढ़ती जा रही है। नियोजन इकाई से खाली पदों की लिस्ट नहीं मिल पाने की वजह से एक बार फिर नया डेट मिल सकता है। शिक्षा विभाग ने पत्र जारी कर कहा था कि जुलाई के आखिर तक बहाली संबंधित विज्ञापन जारी कर दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक छठे चरण में कुल 90,700 पदों में से तकरीबन 45,000 पद खाली रह गए। इस दफा विद्यालयवार खाली पदों की संख्या सातवें चरण की बहाली के लिए 31 मार्च तक गणना हो रहा था। अब शिक्षा विभाग यह तय करेगा कि उसे बहाली के लिए कितने सीटों पर उम्मीदवारों से आवेदन प्राप्त करना है।

Sponsored

Sponsored
Share this Article !

Comment here