AccidentBankBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPATNAPoliticsSTATEUncategorized

बिहार में नकली सरसों तेल का खुलेआम हो रहा कारोबार, पटना में नाली में बहाया जा रहा मस्टर्ड आयल

Patna : प्रदेश में अब सरसों में किसी दूसरे तेल की मिलावट नहीं हो सकेगी। यही नहीं आमजन भी शुद्धता की परख कर सकें इसलिए पैकिंग पर कंपनियों को तेल की बाबत पूरी जानकारी देनी होगी। यदि उसमें सरसों के अलावा किसी अन्य तेल की मिलावट की गई होगी तो आप खाद्य संरक्षा विभाग में शिकायत कर दुकानदार से लेकर कंपनी तक पर कार्रवाई करा सकते हैं। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआइ) ने 8 जून को इस बाबत निर्देश जारी किए थे। इसके आलोक में गत दो दिन में अभिहित पदाधिकारी ने सरसों तेल के 12 डीलरों के गोदाम में छापेमारी की।

Loading...
Sponsored

इस क्रम में उन्होंने दो डीलर को तेल कंपनी को वापस करने का निर्देश दिया है। इन दोनों तेलों की बिक्री पर भी रोक लगा दी गई है। इन डीलरों के तेल में 70 फीसद सरसों और 30 फीसद अन्य खाद्य तेल मिलाए गए थे। गुरुवार को भी पटना में बड़े पैमाने पर छापेमारी कर नकली तेज नष्ट किए गए।

Loading...
Sponsored

खाद्य संरक्षा विभाग के अभिहित पदाधिकारी अजय कुमार ने बताया कि सरसों के तेल में अब तक कंपनी वाले ब्लेंडिंग के नाम पर दूसरे खाद्य तेल मिलाते थे। धीरे-धीरे अन्य खाद्य तेलों की मात्रा बढ़ती गई और सरसों को तेल कम होता चला गया। नए आदेश के अनुसार अब सरसों के तेल में ब्लेंडिंग को प्रतिबंधित कर दिया गया है। अब कंपनियां सौ फीसद शुद्ध सरसों का तेल ही बेच पाएंगी। यही नहीं कंपनियों को अनिवार्य रूप से हर पैकिंग पर शुद्धता का विवरण देना होगा। उन्होंने बताया कि पटना में सरसों का तेल अन्य राज्यों से मंगाकर यहां पैकिंग कर बेचा जाता है। ऐसे में ब्लेंडेड सरसों का तेल बेचने वाले डीलर को पूरा माल वापस करने को कहा गया है।

Loading...
Sponsored

अभिहित पदाधिकारी ने बताया कि आमजन सरसों के तेल के लिए पैसे देते हैं। उन्हें पता ही नहीं होता कि जिसे वे सरसों का तेल समझ रहे हैं उसमें 50 फीसद तक अन्य खाद्य तेल मिले हुए हैं। ऐसे में वे नाक में डालने के साथ उनका अन्य औषधीय कार्यों में धड़ल्ले से इस्तेमाल करते हैं। कंपनियां अन्य तेलों की मिलावट की जानकारी पैकिंग पर नहीं देतीं इसलिए उन्हें इसकी जानकारी भी नहीं होती है। नए निर्देश के तहत अब सौ फीसद तेल की बिक्री सुनिश्चित कराई जाएगी। इससे सरसों की मांग बढ़ेगी तो किसान उपज क्षेत्र बढ़ाएंगे। इससे सरसों के तेल के दाम में भी कमी होगी। बताते चलें कि अन्य खाद्य तेल दूसरे देशों से आयात किए जाते हैं।

Loading...
Sponsored

 

 

 

input – daily bihar

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here