ADMINISTRATIONBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPoliticsSTATE

बिहार के 2.5 लाख वर्गमीटर हाइलैंड पर गुलाब के साथ ऑफ सीजन की सब्जियों और औषधि की होगी खेती

पॉली हाउस और शेड नेट हाउस के माध्यम से होने वाली इस खेती के लिए संरक्षित खेती के द्वारा बागवानी विकास योजना के लिए 779 किसानों ने रुचि दिखायी है।

उद्यान निदेशालय ढाई लाख वर्गमीटर के हाइलैंड (ऊंची जमीन) में अर्नामेंटल फूल- जरबेरा, ग्लेडूलाई, गुलाब, खीरा, शिमला मिर्च, ऑफ सीजन की महंगी सब्जियां, औषधि की खेती करा कर किसानों की उन्नति की नींव रख रहा है।

Sponsored

पॉली हाउस और शेड नेट हाउस के माध्यम से होने वाली इस खेती के लिए संरक्षित खेती के द्वारा बागवानी विकास योजना के लिए 779 किसानों ने रुचि दिखायी है। योजना का लाभ लेने के लिए सभी जिलों के किसानों व्यक्तिगत अथवा समूह में ऑनलाइन आवेदन लिये जा रहे हैं।

Sponsored

शेड नेट हाउस पर लागत का 75 फीसदी अनुदान

बदलते मौसम में खेती करना किसानों के लिए जोखिम भरा काम हो गया है। प्राकृतिक आपदाओं एवं कीट रोगों के चलते फसल का नुकसान उठाना पड़ता है।

Sponsored

75 percent subsidy of the cost on shade net house

Sponsored

सरकार इस जोखिम को कम करने के लिए किसानों को पॉली हाउस व शेड नेट हाउस पर लागत का 75 फीसदी अनुदान मुहैया करा रही है। इसमें राज्य सरकार का 25 फीसदी टॉपअप अनुदान भी शामिल है।

Sponsored

दशकों बाद योजना को मिली मंजूरी

संरक्षित खेती के द्वारा बागवानी विकास योजना को एक दशक से अधिक समय बाद दोबारा मंजूरी मिली है। केंद्र-राज्य सरकार की 60:40 फीसदी भागीदारी वाली योजना को 2012-13 के बाद बंद कर दिया गया था। ऊंचाई वाली जमीन की उपलब्धता और मांग के अनुसार जिलों का लक्ष्य तय किया जायेगा।

Sponsored

पॉली हाउस से साल में 3 फसल

पॉली हाउस खेत पर ही एक ढांचानुमा रचना होती है, जो तापमान को नियंत्रित कर उगायी जाने वाली फसल के अनुकूल माहौल बना देती है। इसके लिए खेत की जमीन पर जगह-जगह कंक्रीट की नींव पर एक स्टील के फ्रेम का ढांचा खड़ा किया जाता है।

Sponsored

3 crops in a year from poly house

Sponsored

इसे पॉलीशीट से कवर कर उस पर एक हवादार नेट अलग से लगाया जाता है। इसमें से टपक सिंचाई होती है. विशेषज्ञों की राय पर मूल्यवान तीन फसल उगायी जाती है।

Sponsored

एक नजर में योजना

उद्यान निदेशालय के सूत्रों के अनुसार पॉली हाउस के लिए कुल लक्ष्य दो लाख वर्गमीटर और शेड नेट का कुल लक्ष्य 50 हजार वर्गमीटर तय किया गया है।योजना की लागत 935 रुपये प्रति वर्ग मीटर अनुमानित है. इसमें 75 फीसदी अनुदान मिलेगा।

Sponsored

योजना का लाभ लेने के लिए किसान के पास न्यूनतम जमीन एक हजार वर्गमीटर होनी चाहिए। कोई किसान या समूह अधिकतम चार हजार वर्गमीटर तक के लिए लाभ ले सकता है।

Sponsored

क्या है शेड नेट?

यह एक ऐसी तरीका है, जिसमें जाल के अंदर नियंत्रित किये गये तापमान में खेती की जा सकती है। दो तरह के जाल (नेट) होते हैं। ऊपर का हिस्सा सफेद होता है, जबकि निचला जाल हरे रंग का होता है. ढांचे के अंदर फागर भी लगे होते हैं।

Sponsored

Sponsored
Share this Article !

Comment here