Sponsored
Breaking News

पिता बनाते है पंचर, बेटा BPSC में 80वां रैंक लाकर बना अफसर, बोले शमीम बेटे ने जिंदगी की पंचर बना दी

Sponsored

बीपीएससी में 80वां रैंक लाने वाले हदीद का परिवार आर्थिक रूप से काफी कमजोर है। उनके पिता ने बताया कि हदीद बचपन से ही पढ़ने में काफी अच्छे थे। गांव के स्कूल से मैट्रिक पास की थी। हदीद का चयन ग्रामीण विकास विभाग के लिए हुआ है। उन्हें बीडीओ का पद मिलेगा।

बिहार के जमुई के सिकंदरा में पंचर बनाने वाले शमीम खान को बुधवार शाम तक कोई पहचानता तक नहीं था। लेकिन अब उनके घर पर बधाई देने वालों की लाइन लगी हुई है।

Sponsored

शमीम अब पंचर बनाने वाले नहीं बल्कि बीडीओ हदीद खान के पिता हो गए हैं। बीपीएससी परीक्षा में 80वां रैंक लानेवाले हदीद खान जमुई जिले के सिकंदरा इलाके के पोहे गांव के रहने वाले हैं।

Sponsored

हदीद के पिता शमीम खान वर्षों से सिकंदरा में एक पेट्रोल पंप के आगे फुटपाथ पर पंक्चर ठीक करने का काम करते हैं। बेटे के बीपीएससी में पास होने पर पिता ने कहा कि उन्हें अपने बच्चे पर भरोसा था। उन्होंने कहा कि मैं लोगों की गाड़ियों के टायर का पंचर बनाता था। मेरे बेटे ने जिंदगी का पंचर बना दिया।

Sponsored
हदीद के पिता शमीम खान वर्षों से सिकंदरा में एक पेट्रोल पंप के आगे फुटपाथ पर पंक्चर ठीक करने का काम करते हैं

हदीद का परिवार आर्थिक रूप से है काफी कमजोर

बीपीएससी में 80वां रैंक लाने वाले हदीद का परिवार आर्थिक रूप से काफी कमजोर है। उनके पिता ने बताया कि हदीद बचपन से ही पढ़ने में काफी अच्छे थे। गांव के स्कूल से मैट्रिक पास की थी।

Sponsored

उस वक्त कक्षा में सबसे ज्यादा नंबर हदीद के ही आए थे। हदीद ने कभी अपने आर्थिक तंगी को अपनी पढ़ाई लिखाई में बाधा बनने नहीं दिया। पहली बार बीपीएससी की परीक्षा दी थी।

Sponsored

पहली ही बार में उसने हमारी पंचर जिंदगी ठीक कर दी। अब जिंदगी की गाड़ी ठीक से चलेगी। हदीद का चयन ग्रामीण विकास विभाग के लिए हुआ है। उन्हें बीडीओ का पद मिलेगा।

Sponsored
बीपीएससी में 80वां रैंक लाने वाले हदीद का परिवार आर्थिक रूप से काफी कमजोर

पिता की प्रेरणा से पाया मुकाम: हदीद खान

हदीद ने अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता को दिया है। उन्होंने कहा कि उनके पिता ही उनकी प्रेरणा है। सड़क के किनारे जमीन पर बैठकर पंक्चर ठीक करते अपने पिता की मेहनत देखकर ही मैंने अपना सारा ध्यान पढ़ाई-लिखाई में लगाया।

Sponsored

मन में ठान लिया था कि एक दिन अधिकारी बनकर दिखाऊंगा। शमीम बताते हैं कि उनका बेटा अब अधिकारी बन गया है फिर भी वो पंचर बनाएंगे।

Sponsored

पंचर बनाना मेरा पेशा है और आदमी को अपने जमीन से जुड़े रहना चाहिए। पहले पंचर बनाना मेरे मजबूरी थी, अब अपना वक्त काटने के लिए पंचर बनाऊंगा।

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Abhishek Anand

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored