ADMINISTRATIONBankBIHARBreaking NewsMUZAFFARPURNationalPoliticsSTATE

नीतीश कुमार तक पहुंची शिकायत तो भागे पहुंचे बीडीओ, 609 बच्चों वाले स्‍कूल में केवल 138 ही मिले उपस्थित

पटना। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर कटिहार के एक युवक ने बताया कि उसके यहां शिक्षक 12 बजे ही स्‍कूल बंद कर चले जाते हैं। इससे हैरान मुख्‍यमंत्री ने तुरंत शिक्षा विभाग के दो बड़े अफसरों को फोन लगाकर कार्रवाई करने का निर्देश दे दिया। विभाग ने तुरंत कटिहार के डीएम से संपर्क साधा और चंद मिनटों में बीडीओ उस स्‍कूल की जांच के लिए पहुंच गए।

Sponsored

जनता के दरबार में सीएम कार्यक्रम में आई शिकायत

जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में सोमवार को कटिहार जिले से आए एक युवक रूपेश कुमार ने फलका प्रखंड के आदर्श मध्य विद्यालय (गोपालपट्टी) के बारे में शिकायत की थी। युवक ने स्‍कूल में शिक्षकों के नहीं पढ़ाने और साढ़े बारह बजे ही छुट्टी करने देने की शिकायत की थी। इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहले शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह और फिर शिक्षा मंत्री प्रो. चंद्र शेखर को तत्काल एक्शन लेने का आदेश दिया था।

Sponsored

जांच में दोपहर डेढ़ बजे खुला मिला विद्यालय

इस पर शिक्षा विभाग ने फौरी कार्रवाई करते हुए कटिहार के जिलाधिकारी (डीएम) को जांच कराने को कहा। बिना देर किए डीएम ने भी फलका के प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) को संबंधित विद्यालय में जांच हेतु भेजा। दोपहर डेढ़ बजे बीडीओ ने विद्यालय में निरीक्षण किया तो विद्यालय न केवल खुला था बल्कि समयानुसार कक्षाए चल रही थीं और पठन-पाठन भी हो रहा था।

Sponsored

13 में 10 शि‍क्षक उपस्थित मिले

बीडीओ ने हर पहलू से विद्यालय में निरीक्षण किया और इसकी जांच रिपोर्ट डीएम को शाम तक दी। फिर देर शाम डीएम ने जांच प्रतिवेदन शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को भेजा। अपने प्रतिवेदन में डीएम ने कहा है कि विद्यालय में प्रधानाध्यापक सहित कुल 13 शिक्षक व शिक्षिकाएं पदस्थापित हैं जिसमें 10 शिक्षक/ शिक्षिकाएं उपस्थित पाए गए।

Sponsored

विद्यालय में कम थी बच्‍चों की उपस्थिति

दो शिक्षक वैधानिक अवकाश में तथा प्रभारी प्रधानाध्यापक डीबीटी कार्य का प्रतिवेदन जमा करने हेतु प्रखंड संसाधन केंद्र, फलका गए हुए थे। विद्यालय में कुल 609 बच्चे नामांकित हैं और 138 बच्चे उपस्थित पाए गए। बच्चों की उपस्थिति अपेक्षाकृत कम पायी गई। विद्यालय का वातावरण साफ-सुथरा है।

Sponsored

शिकायत करने वाला युवक इसी गांव का

उपस्थित शिक्षकों ने बताया कि जिस युवक ने शिकायत की है वह उसी गांव का है और प्रधानाध्यापक एवं उस युवक के बीच आपसी रंजिश पहले से है और इसके कारण इस तरह का आरोप लगा रहे हैं। प्रतिवेदन में डीएम ने यह भी लिखा है कि 10 नवंबर को भी दोपहर दो बजे उस विद्यालय में जाकर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी से निरीक्षण कराया गया था तब समयानुसार विद्यालय एवं कक्षाएं संचालित पायी गई थीं और पठन-पाठन भी सामान्य था।

Sponsored
Sponsored
Share this Article !

Comment here