Sponsored
Breaking News

देश के 16 पावर प्‍लांट्स को यदि फौरन नहीं हुई कोयले की आपूर्ति तो बिजली उत्‍पादन हो जाएगा ठप- सीईए

Sponsored

नई दिल्‍ली (जेएनएन)। देश के पावर प्‍लाटों में कोयले की कमी की आशंकाओं के बीच केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण ने बड़ा बयान दिया है। प्राधिकरण का कहना है कि देश में 90 से अधिक बिजली उत्‍पादन करने वाले प्‍लांटों में अधिकतम 4 दिनों का ही कोयला बचा हुआ है। ऐसे में देश के सामने बिजली संकट खड़ा हो सकता है। वहीं प्राधिकरण ने ये भी कहा है कि देश के 16 पावर प्‍लांट ऐसे भी हैं जहां यदि तुरंत कोयले की आपूर्ति नहीं की गई तो वो किसी भी वक्‍त ठप हो सकते हैं। इसका सीधा सा अर्थ है कि यहां से होने वाली बिजली का उत्‍पादन कभी भी बंद हो सकता है।

Sponsored

सीईए ने तीन दिन पहले ही एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें बिजली संयंत्रों के लिए मौजूद कोयले भंडार का जिक्र किया गया था। इसमें कहा गया है कि 25 पावर प्‍लांट्स के पास केवल एक दिन, 20 पावर प्‍लांट्स के पास दो दिन, 14 प्‍लांट्स के पास तीन दिन और 16 प्‍लांट्स के पास महज चार दिन, 8 प्‍लांट्स के पास पांच दिन, 8 प्‍लांट्स के पास छह दिन और एक पावर प्‍लांट्स के पास केवल सात दिनों का कोयला भंडार ही बचा हुआ है। ऐसे में यदि इन प्‍लांट्स को कोयले की आपूर्ति तुरंत नहीं की गई तो देश के सामने बिजली का गंभीर संकट हो सकता है। यदि ऐसा हुआ तो इससे देश को जबरदस्‍त आर्थिक चपत भी लगनी तय है।

Sponsored

इस रिपोर्ट से ये साफ हो गया है कि देश के किसी भी पावर प्‍लांट्स के पास आठ दिन के लिए भी कोयले का स्‍टाक नहीं बचा हुआ है। बुधवार को कोयला मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि तीन बातों पर गौर कर रहा है, जो प्रक्रिया के अंतिम चरण में हैं। इनमें से पहला है संस्‍थागत संचालन व्‍यवस्‍था, समुदाय और पर्यावरण सुधार, न्‍यायसंगत बदलाव के सिद्धांत पर भूमि के दोबारा उपयोग के आधार पर खान को बंद करने की रूपरेखा।

Sponsored

मंत्रालय का ये भी कहना है कि देश में कोयले का उत्‍पादन बढ़ा है और देश की ऊर्जा की मांग को पूरा करने की हर संभव कोशिश की जा रही है। मंत्रालय के आंकड़े भी इस बात की तसदीक करते दिखाई दे रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक इस वर्ष जुलाई में कोयले का उत्‍पादन पिछले वर्ष इसी माह की तुलना में करीब 19.33 फीसद तक बढ़ा है। हालांकि जानकार ये भी मानते हैं कि देश में कोयले का पर्याप्‍त भंडार मौजूद है। ऊर्जा विशेषज्ञ नरेंद्र तनेजा का कहना है कि मौजूदा संकट की वजह बारिश का लंबे समय तक होना, कोयले का प्रबंधन, खनन में आधुनिकता की कमी रही है। हालांकि वो ये भी मानते हैं कि इस संकट से बचा जा सकता था।

Sponsored

 

 

 

 

input – jagran

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Pranav prakash

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored