ADMINISTRATIONBIHARBreaking NewsCRIMEHealth & WellnessNationalNaturePolicePoliticsRAILTravel

दिल्ली-मुम्बई में बिहारी मजदूरों को ‘लाकडाउन’ का डर, घर वापसी शुरू, बस-ट्रैन में जबरदस्त भीड़

PATNA- लॉकडाउन का डर, घर लौटने लगे मजदूर, फिर लॉकडाउन में न फंस जाएं, इसलिए लौटने लगे प्रवासी कामगार, दूसरी लहर के कटु अनुभवों को देखते एहतियातन खुद लिया निर्णय, कंपनी अभी बंद तो नहीं है लेकिन लॉकडाउन का भय सता रहा : तीसरी लहर के शुरू होते बिहार से बाहर काम कर रहे प्रवासी सहम गए हैं। दूसरी लहर के कटु अनुभव और लौटने में हुई परेशानियों को वे भूल नहीं पाये हैं। यही कारण कि अभी लॉकडाउन या अन्य पाबंदियां नहीं लगने के बावजूद धीरे-धीरे प्रवासी अपने देस लौटने लगे हैं। मंगलवार को हिन्दुस्तान ने कई स्टेशनों पर पड़ताल की तो पता चला कि दिल्ली, मुंबई, लुधियाना, जयपुर, कानपुर, कोलकाता, उड़ीसा आदि स्थानों से ज्यादा लोग बिहार लौट रहे हैं।

Loading...
Sponsored

डुमरांव स्टेशन पर मगध एक्सप्रेस चंदा गांव के नारद नोनिया व रामप्रवेश राम उतरे। बक्सर स्टेशन पर श्रमजीवी व गरीब एक्सप्रेस से बलिया जिले के फेफना निवासी रामशंकर प्रसाद, सोनी देवी ने कहा, कंपनी अभी बंद तो नहीं है लेकिन लॉकडाउन का भय सता रहा है। मंगलवार दोपहर साढ़े तीन बजे पटना पहुंची एलटीटी भागलपुर एक्सप्रेस से आए राजकुमार ने बताया कि वे मुम्बई में फैक्ट्री में काम करते हैं। दोबारा लॉकडाउन लगने की आशंका सता रही है, इसलिए होली के अवसर पर घर आने वाले उनके अन्य साथी अभी ही वापस आने का मन बना रहे हैं। पुनपुन निवासी सुभाष यादव ने बताया कि डर है कि कहीं फैक्ट्री बन्द हो न जाए। माहिम में मिस्त्रत्त्ी का काम करने वाले राजकुमार कहते हैं कि मुम्बई में भी प्रतिबंध बढ़े होने की आशंका से वे लौट आए हैं।

Loading...
Sponsored

बसों से आने का सिलसिला बढ़ा

Loading...
Sponsored

मुजफ्फरपुर के सदातपुर तिराहे पर यात्रियों से भरी बसों के आने का सिलिसिला बढ़ गया है। यहां अमित दास ने बताया कि दिल्ली में अभी कंपनी के मालिक ने आने से मना नहीं किया है मगर संक्रमण की लगातार खराब स्थिति के कारण कभी भी ऐसी घोषणा हो सकती है। वे ग्लास बनाने वाली प्लास्टिक फैक्ट्री में काम करते हैं। पिछली बार वे फंस गए थे। उनके चचेरे भाई की कोरोना से मौत हो गई थी। इसलिए इस बार वे लोग समय से पहले ही लौट आए।

Loading...
Sponsored

किशुन राम दिल्ली से पुरुषोत्तम एक्सप्रेस से गया जंक्शन पहुंचे। उन्होंने कहा- दिल्ली में सबको लॉकडाउन का डर है। इसलिए लौट आए। कोलकाता से आए सुमन रविदास बोले- इससे पहले की कंपनी काम बंद कर दे और लौटना मुश्किल हो जाए, खुद ही लौटने का फैसला कर लिया है।

Loading...
Sponsored

असम से छपरा स्टेशन पहुंचे मढ़ौरा के जमालपुर निवासी पिंटू साह और संजय साह ने बताया कि संक्रमण बढ़ने से लोग डरने लगे हैं। इसलिए लौट आये। राजस्थान से मढ़ौरा लौटे विजय सिंह, दिल्ली से लौटे झुमन साह और मो आज़ाद, विकास कुमार, रहमत अली ने बताया कि पिछले साल की तरह इस बार लॉकडाउन में फंसकर परेशानी नहीं झेलना चाहते हैं। रोहतास के न्यू डिलियां निवासी धनंजय कुमार मुंबई में निजी कंपनी में काम करते हैं। वे अब सपरिवार घर लौट आए। सासाराम स्टेशन पर उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में फंस न जाएं, इसलिए आ गए। हैदराबाद के महबूब नगर से लौटे मजदूर प्रेम शंकर ने कहा मेरे साथ कई लोग ट्रेन से उतरे हैं। गोपालगंज में तकरीबन दो से तीन सौ की संख्या में रोजाना प्रवासी कामगार लौट रहे हैं।

Loading...
Sponsored

महाराष्ट्र से लौटे आशा खैरा गांव के कुंदन कुमार ने बताया कि उन्होंने वैक्सीन की दोनों डोज ले रखी है। लेकिन, महाराष्ट्र में बढ़ते संक्रमण से उन्होंने घर लौटने का निर्णय लिया। सूरत से लौटे मझौलिया के राजेश यादव वहां फिटर का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि तीस फीसदी कर्मियों की उपस्थिति के साथ वहां फैक्ट्री संचालित की जा रही है। इसलिए लौटना पड़ा। इसी तरह एनएच 27 के रास्ते दिल्ली से लोग बस से भी लौट रहे हैं। मंगलवार को सीतामढ़ी लौट रहे आमोद पटेल ने बताया कि वह दिल्ली में चाउमीन का ठेला लगाते हैं। वहां संक्रमण फैलने के बाद बाजार को बंद कर दिया गया है।

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here