Breaking NewsInternational

तालिबान के आते ही अफगानिस्तान में स्कूल-कॉलेज सब बंद, लेकिन बुर्के की दुकानें खुल रहीं

अफगानिस्तान में तालिबान का शासन शुरू होने के पहले ही उसका असर नजर आने लगा है। अफरातफरी और दहशत के माहौल की वजह से स्कूल, कॉलेज, दुकानें बंद हैं, बिजनेस ठप हो गए हैं, लेकिन बुर्के की दुकानों में एकदम से बिक्री बढ़ गई है। इनमें भी मोटे कपड़े वाले ऐसे बुर्के की मांग सबसे ज्यादा है, जो महिलाओं को पूरी तरह ढंक देता हो।

Loading...
Sponsored

न्यूज वेबसाइट ब्लूमबर्ग ने साल 2019 में यूनाइटेड नेशंस में अफगान यूथ रिप्रेजेंटेटिव रहीं आयशा खुर्रम के हवाले से लिखा है कि अभी सबसे ज्यादा बूम बुर्का बिजनेस में आया है। अलग-अलग प्रांतों में बुर्के की दुकानें दोबारा खुल रही हैं। महिलाओं को पूरा ढंकने वाले मोटे और नीले कपड़े वाले बुर्के खूब बिक रहे हैं। यह तालिबान के पिछले शासन का दमनकारी प्रतीक है। दोबारा तालिबान के आने पर बुर्का अचानक महंगा और जरूरी बन गया है।

Loading...
Sponsored

खुर्रम कहती हैं कि ऐसी कई महिलाएं हैं जिन्होंने तालिबान के पुराने शासन को नहीं जिया है। वे उनके तरीकों को नहीं जानतीं। वे अब कह रही हैं कि हम इस दमनकारी पोशाक को नहीं अपनाएंगे।

Loading...
Sponsored
काबुल में इस तरह से बुर्का पहनी महिलाएं सार्वजनिक वाहनों से घरों में पहुंच रही हैं।
काबुल में इस तरह से बुर्का पहनी महिलाएं सार्वजनिक वाहनों से घरों में पहुंच रही हैं।

मुझे नहीं लगता अब कभी ग्रेजुएट हो पाऊंगी…
आयशा कहती हैं कि तालिबानी शासन आने से पढ़ाई कर रहीं लड़कियों के सपने टूट चुके हैं। 22 साल की आयशा काबुल यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशंस का कोर्स कर रही हैं और इस बार उनका फाइनल सेमेस्टर है। इसके पूरे होने में महज दो महीने ही बाकी रह गए हैं। वे कहती हैं अब शायद मैं कभी ग्रेजुएट नहीं हो पाऊंगी।

Loading...
Sponsored

लोग सदमे में हैं। अब किसी की आंखों में आंसू नहीं हैं। कोई नहीं समझ पा रहा कि क्या महसूस करें। राजधानी को यातायात ने जाम कर रखा है, क्योंकि घबराए लोग सुरक्षित अपने घरों तक पहुंचना चाहते हैं। रविवार सुबह से ही बिजली गुल है। जिन चुनिंदा लोगों के पास बिजली है, सिर्फ वही TV और न्यूज देख सकते हैं। लोग देश छोड़ना चाहते हैं, लेकिन सीमाएं बंद हैं।

Loading...
Sponsored

खौफ के बीच कुछ महिलाएं हिम्मत भी दिखा रहीं
खौफ के इस माहौल के बीच कुछ महिलाएं अब भी हिम्मत दिखा रही हैं और अपनी बात रख रही हैं। काबुल स्थित अमेरिकी यूनिवर्सिटी ऑफ अफगानिस्तान में लेक्चरर मुस्का दस्तगीर सोशल मीडिया पर सीधे तालिबानी नेताओं तक अपनी बात पहुंचा रही हैं।

Loading...
Sponsored

वे लिखती हैं कि अफगानों को शिकार बनाया जा रहा है। अफगानी महिलाएं नहीं छिपेंगी। हम नहीं डरेंगे। पूरी दुनिया की नजरें अफगानिस्तान, काबुल और तालिबान पर हैं।

Loading...
Sponsored

 

Input: Daily Bihar

Loading...
Sponsored
Loading...
Sponsored
Share this Article !

Comment here