Sponsored
Breaking News

औरंगाबाद के शिक्षक ने की थी 24 परीक्षार्थियों की सेटिंग, रिमांड पर अब आरोपित खोलेगा राज

Sponsored

बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) के पेपर लीक मामले में जेल में बंद कृषि विभाग के सहायक राजेश कुमार और औरंगाबाद के शिक्षक सुधीर कुमार सिंह को इओयू ने तीन दिनों के रिमांड पर लिया है. इओयू ने विशेष न्यायिक दंडाधिकारी संगम कुमार की अदालत में इन दोनों को पांच दिनों के रिमांड पर लेने की अर्जी दी थी. लेकिन, अदालत ने तीन दिनों के रिमांड पर लेने की अनुमति दी.

Sponsored

कई परीक्षार्थियों से आठ से 10 लाख रुपये लिये

इओयू ने परीक्षार्थियों से डील करने के साक्ष्य मिलने के बाद शिक्षक सुधीर कुमार सिंह को गिरफ्तार किया था. इसने कई परीक्षार्थियों से आठ से 10 लाख रुपये लिये थे. इओयू इस मामले में सुधीर से इस बात की पूछताछ करेगी कि उसने किन-किन लोगों से रकम ली थी. इसके साथ ही इओयू उसके खाते को भी खंगाल रही है, ताकि इस बात की जानकारी मिल सके कि उसने किन लोगों से रकम ली थी और किन-किन लोगों को दी थी.

Sponsored

अपने बच्चों को पास करवाने कई अधिकारी भी जुड़े

सूत्रों का कहना है कि सुधीर सिंह से कई अधिकारी भी जुड़े हुए थे, जिन्होंने अपने बेटे-बेटी और रिश्तेदार को बीपीएससी की 67वीं पीटी में सफल कराने के लिए संपर्क किया था. यह औरंगाबाद के अंबा थाने के झखरी गांव का रहने वाला है. सेटिंग करने वाले गैंग से यह सीधे जुड़ा हुआ था और परीक्षार्थियों से रकम लेने के बाद उन्हें पेपर उपलब्ध कराया था. पकड़े जाने के बाद इससे केवल यह जानकारी मिली थी कि इसने 24 परीक्षार्थियों की सेटिंग की थी. इसके साथ ही इओयू उससे यह जानना चाहती है कि उसके मोबाइल फोन पर जब 67वीं पीटी के सेट सी का प्रश्नपत्र आया, तो उसने किन-किन लोगों को उसका प्रिंट निकाल कर दिया.

Sponsored

इओयू को मिल चुका लिंक

हालांकि, जांच में पहले यह बात सामने आ चुकी है कि उसने सीवान निवासी व परीक्षार्थी निशिकांत राय के मोबाइल पर प्रश्नपत्र को भेजा था. इसके बाद निशिकांत ने वैशाली के शिक्षक कृष्ण मोहन सिंह व अन्य लोगों के मोबाइल फोन पर प्रश्नपत्र को भेजा था. मोबाइल फोन से किन-किन लोगों को प्रश्नपत्र भेजा गया, यह लिंक इओयू को मिल चुका है. लेकिन उसका प्रिंट निकाल कर किन-किन लोगों को दिया गया, इस संबंध में भी इओयू को उससे पूछताछ करना है.

Sponsored

सहायक के पास कई अहम जानकारियां

दूसरा आरोपित राजेश कुमार भागलपुर के सजौर थाने के जगरनाथपुर का रहने वाला है. लेकिन, पटना में यह पूर्वी पटेल नगर रोड नंबर छह में किराये पर फ्लैट लेकर रह रहा था. राजेश कृषि विभाग में सहायक भी है. राजेश ने ही इओयू को लोहानीपुर में आनंद गौरव उर्फ पिंटू यादव के फ्लैट में बने कंट्रोल रूम की जानकारी दी थी.

Sponsored

राजेश के भी सेटर गिरोह से अच्छे संबंध

राजेश के भी सेटर गिरोह से अच्छे संबंध थे. इओयू इससे भी सेटिंग से संबंधित बिंदु पर विस्तार से जानकारी लेगी, क्योंकि यह बीपीएससी पेपर लीक से जुड़ी कई अहम जानकारी जानता है और इओयू को शक है कि इस गिरोह से कई अन्य लोग भी जुड़े हुए हैं.

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Abhishek Anand

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored